• संवाददाता,

शाहीन बाग पहुंचे SC के नियुक्त वार्ताकार, प्रदर्शनकारियों से कर रहे बात


नई दिल्ली शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन जारी है और इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई में वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े को मध्यस्थ नियुक्त किया है। कोर्ट ने वकील साधना रामचंद्रन और वजहत हबीबुल्लाह को भी वार्ताकार बनाया है। संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन आज प्रदर्शनकारियों से बात करने पहुंचे हैं। शाहीन बाग में साधना रामचंद्रन ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि आपको विरोध करने का अधिकार है। कानून (CAA) को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। लेकिन हमारी तरह, दूसरों के भी अपने अधिकार हैं, जैसे सड़कों का उपयोग करने, अपनी दुकानें खोलने का अधिकार। वजहत हबीबुल्लाह 4.30 में पहुंचेंगे। आपको बता दें कि नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में सैंकड़ों लोग, विशेषकर महिलाएं दिल्ली के शाहीन बाग में डेरा डाले हुए हैं, जिनके प्रदर्शनों वजह से एक मुख्य मार्ग अवरुद्ध हो गया है जिसके कारण शहर में यातायात की समस्या पैदा हो गई है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा था कि लोगों को एक कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने का मौलिक अधिकार है लेकिन सड़कों को अवरूद्ध किया जाना चिंता की बात है और संतुलन का एक कारक होना जरूरी है। संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शनों के कारण सड़कें अवरूद्ध होने को लेकर दायर की गई याचिकाओं की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति एस के कौल और न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की एक पीठ ने कहा कि उसे चिंता इस बात की है कि यदि लोग सड़कों पर प्रदर्शन करने लगेंगे तो क्या होगा।