• संवाददाता

कश्मीर के हालात देखने पहुंचा दूसरा विदेशी प्रतिनिधिमंडल


श्रीनगर भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 (Article 370) के ज्यादातर प्रावधान समाप्त किए जा चुके हैं। इसके बाद से जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म होने के बाद बहुत कुछ बदल गया। ऐसे में कश्मीर के हालात देखने के लिए विदेशी प्रतिनिधिमंडल एक बार फिर से जम्मू-कश्मीर पहुंचा है। भारत के विदेश मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि यह प्रतिनिधिमंडल 12 और 13 फरवरी को मीडिया, स्थानीय लोगों, व्यापारियों और नेताओं से भी मुलाकात करेगा। आपको बता दें कि इससे पहले भी एक विदेशी प्रतिनिधिमंडल कश्मीर का दौरा कर चुका है। भारत सरकार के आउटरीच प्रोग्राम के तहत यह दौरा आयोजित किया गया है। दो दिवसीय इस दौरे में कई देशों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। यह प्रतिनिधिमंडल जम्मू-कश्मीर के बारामुला, श्रीनगर और जम्मू जैसे इलाकों में जाएगा। यह प्रतिनिधिमंडल वहां की सिविल सोसायटी के लोगों, युवाओं, धार्मिक, सांस्कृतिक और कई अन्य समुदायों के लोगों से मुलाकात करेगा। विदेश मंत्रालय की ओर से यह भी बताया गया है कि स्थानीय व्यापारी, राजनेता, प्रशासनिक अधिकारी और मेनस्ट्रीम मीडिया के लोग भी प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात करेंगे। इन दौरों से सरकार का प्रयास है कि वैश्विक स्तर पर संदेश दिया जाए कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हैं। आपको यह भी बताते चलें कि लगभग पांच महीने के बाद हाल ही में जम्मू-कश्मीर में 2जी इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई है। इससे पहले जनवरी में 15 देशों के राजनयिकों का एक प्रतिनिधिमंडल दो दिवसीय दौरे पर श्रीनगर पहुंचा था। इस दौरे में भी प्रतिनिधिमंडल ने सिविल सोसायटी, स्थानीय नेताओं और मीडिया से मुलाकात की थी। दरअसल, पाकिस्तान वैश्विक स्तर पर लगातार यह बताने की कोशिश कर रहा है कि कश्मीर में रक्तपात जारी है। पाकिस्तान के इसी दावे की पोल खोलने के लिए भारत सरकार ने जनवरी में भी विदेशी प्रतिनिधिमंडल को सच्चाई जानने का न्यौता दिया था।