CAA के खिलाफ यूपी में हुई हिंसा में PFI की भूमिका आई सामने

January 27, 2020

 नई दिल्ली
उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) विरोध के पीछे देशविरोधी ताकतों का हाथ था। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि हिंसा भड़काने के लिए पैसे का इस्तेमाल किया गया था। ईडी की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का इन हिंसा से सीधा संबध था। जिन इलाकों में CAA के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान हिंसा हुई थी, वहां PFI के हाथ होने के तार जुड़े हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 73 बैंक खातों में 120 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम जमा की गई थी। इन पैसों का इस्तेमाल प्रदर्शन के लिए हुआ था। हमारे सहयोगी चैनल टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, ईडी की जांच में पाया गया कि दिसंबर में संसद से CAA पास होने के बाद पश्चिम यूपी के हिंसाग्रस्त इलाकों बिजनौर, हापुड़, बहराइच, शामली और डासना के कई बैंक अकाउंट में पैसे भेजे गए थे। रिपोर्ट के अनुसार, 73 बैंक अकाउंट में करीब 120 करोड़ रुपये भेजे गए थे। इन पैसों का इस्तेमाल विरोध-प्रदर्शनों की फंडिंग के लिए किया गया था। रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि PFI की कश्मीर यूनिट को भी 1.65 करोड़ रुपये मिले थे। ईडी ने गृह मंत्रालय को इन पैसों के लेनदेन के बारे में आगाह किया था। यह रिपोर्ट यूपी हिंसा के आरोप में अरेस्ट किए गए PFI अध्यक्ष वसीम अहमद को पिछले सप्ताह जमानत मिलने के कुछ दिन बाद आई है। यूपी पुलिस वसीम के खिलाफ मजबूत सबूत जुटाने में असफल रही थी, हालांकि उसने वसीम को इस हिंसा का मास्टरमाइंड बताया था। इस रिपोर्ट के खुलासे के बाद बीजेपी ने कहा है कि इस मामले की जांच होनी चाहिए। बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अगर कोई खास दिन इस तरह का वित्तीय लेनदेन हुआ है तो इसकी जांच होनी चाहिए।

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.