KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.

काली कमाई का गढ़ था नोएडा, इसलिए सीएम के न जाने का मिथक फैलाया गया: योगी

लखनऊ
पहले राष्ट्रीय रेरा कॉन्क्लेव का उद‌्घाटन करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि नोएडा काली कमाई का गढ़ था, इसलिए मुख्यमंत्री वहां न जाएं, इसका मिथक फैलाया गया था। लोग जानते थे कि अगर कोई संवेदनशील मुख्यमंत्री वहां जाएगा तो उसे काली कमाई के राज भी पता चल जाएंगे। सीएम ने कहा कि करीब तीन साल के कार्यकाल में हमारी सरकार ने उत्तर प्रदेश की तस्वीर बदली है। पहले लोग यहां आने से डरते थे। अब यहां निवेश करते हैं। अब तक निजी क्षेत्र में ही दो लाख करोड़ रुपये का निवेश आ चुका है। सीएम ने कहा कि जब हमारी सरकार बनी तब नोएडा को लेकर मिथक था। सरकार बनते ही हमसे नोएडा और ग्रेटर नोएडा के घर खरीदारों का एक प्रतिनिधिमंडल मिला। हमने उनकी बातें सुनीं और फिर संबंधित बिल्डर से बात की। दोनों को आमने-सामने बैठाया। हमने अधिकारियों को साफ कर दिया कि हमें आवंटियों के भी हित देखने हैं और बिल्डरों की समस्याओं को भी देखना है। हमें पूर्वाग्रह नहीं रखना है। हमारी कोशिशों, मंत्रियों की बैठकों का नतीजा यह निकला कि पहले साल हम एक लाख आवंटियों को मकान दिला पाने में सफल रहे। बाद में आवंटी सुप्रीम कोर्ट चले गए। अब जैसा भी फैसला सुप्रीम कोर्ट करेगा, उसे माना जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यूपी में पहले आंवटी पैसा जमा करते थे, लेकिन उन्हें समय से मकान नहीं मिलता था। इसकी बड़ी वजह राजनीतिक और आर्थिक बेईमानी और बदनीयती थी। आवंटियों का पैसा यहां से लेकर कहीं लगा दिया जाता था या फिर उन्हें किसी और को दे दिया जाता था। यह सब यूपी में हमें विरासत में मिला। लेकिन हम इसे सुधार रहे हैं। पहले यूपी आने से लोग डरते थे। हर दूसरे दिन दंगा होता था। अब यहां लोग सुरक्षित महसूस करते हैं। मेट्रो परियोजना के क्षेत्र में हमने बेहतर काम किया। लखनऊ मेट्रो, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद मेट्रो चल रही है। कानपुर और आगरा में काम हो रहा है। लोगों को आवास, शौचालय और बाकी की योजनाएं चलाई जा रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि लेटलतीफ चल रहे प्रॉजेक्ट्स के कारणों को जानने और उन्हें दूर करने के उपायों के बारे में दो समितियां बनाई गई थीं। उनकी रिपोर्ट आ गई है। मुख्य सचिव से कहा है कि वे इन दोनों रिपोर्ट का अध्ययन करके हमारे सामने रखें। रिपोर्ट की सिफारिशें लागू की जाएंगी। मैं यहां पर बिल्डरों और आवंटियों दोनों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि दोनों के हितों का ध्यान रखा जाएगा। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि यूपी में हाल के समय में बेहतर काम हुआ। उन्होंने कहा कि यूपी पहले तमाम योजनाओं में बेहतर परफॉर्म नहीं कर रहा था। लेकिन इस सरकार में काफी काम हुआ। रेरा में परफॉर्मेंस अन्य राज्यों की तुलना में ज्यादा अच्छा है। 2017 के बाद से यूपी में 72 किलोमीटर से ज्यादा ऑपरेशनल मेट्रो चल रही है। 100 किलोमीटर से ज्यादा की मेट्रो का प्रॉजेक्ट सैंक्शन है। स्मार्ट सिटी परियोजना में यूपी में 18 से 20 हजार करोड़ रुपये का काम सैंक्शन है। ओडीएफ 100 फीसदी हो गया है। जब भी रियल एस्टेट का इतिहास लिखा जाएगा तो उसके दो खंड होंगे प्री-रेरा और पोस्ट रेरा एरा। पहले इसमें ब्लैक मनी लगती थी। कृषि के बाद जो सबसे बड़ा क्षेत्र था, उसके लिए कोई रेग्युलेटर नहीं था। लेकिन केंद्र में हमारी सरकार आने के बाद दो साल के भीतर इसे लागू करवाया गया। हरदीप सिंह पुरी ने 15-17 नवंबर को शहरी यातायात पर बड़ी कॉन्फ्रेंस लखनऊ में आयोजित करवाने की घोषणा की है। हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि केंद्र सरकार मॉडल टेनेंसी ऐक्ट लाने जा रही है। 2011 की जनगणना के मुताबिक करीब एक करोड़ मकान खाली हैं। लेकिन इन्हें किराए पर देने में मकान मालिक डरते हैं। वजह है कि राज्यों में जो कानून हैं, वे मकान मालिकों के हितों की रक्षा नहीं करते। केवल किरायेदारों के हक की बात करते हैं। ऐसे में एक नए टेनेंसी ऐक्ट की जरूरत महसूस की जा रही है। इसके अलावा सरकार रियल एस्टेट के लिए ई-कॉमर्स पोर्टल लाने जा रही है। मकर संक्रांति के आसपास इसे लागू कर दिया जाएगा।

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload