मुख्यमंत्री योगी के आरक्षण कार्ड का काट ढूंढने में जुटीं बीएसपी चीफ मायावती


मेरठ अपने दम पर उपचुनाव में उतरने का ऐलान कर चुकीं बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती भारतीय जनता पार्टी की सियासी गुगली की काट तलाशने का काम करेंगी। इसके लिए मंगलवार को अपने संगठन के साथियों की लखनऊ में मीटिंग बुलाई है। जिसमें वेस्ट यूपी की चार सीटों पर भी मंथन करने के लिए बीएसपी नेता लखनऊ चले गए हैं। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया ने मंगलवार को मंडलीय समीक्षा के नाम पर मीटिंग बुलाई है। सूत्रों के मुताबिक, मीटिंग का असल मकसद उपचुनाव में कामयाबी हासिल करना और यूपी सरकार की तरफ से 17 जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने के बाद सियासी नफा-नुकसान पर मंथन करना है। बीएसपी के जोन स्तर के एक नेता के मुताबिक, एसपी और आरलडी से गठबंधन के बाद जीरो से दस लोकसभा सीटों को जीतने वाली बीएसपी अब अब यूपी में 12 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में दमदार एंट्री करना चाहती है, लेकिन बीजेपी के 17 जातियों को एससी में शामिल करने के दांव से बीएसपी में खलबली है। सूत्रों के मुताबिक, सोमवार को पार्टी मुखिया ने मीडिया के सामने बीजेपी पर हमला बोला। 17 जातियों को धोखा देने के आरोप बीजेपी पर लगाए और उपचुनाव में लाभ लेने के लिए यह फैसला लेने का आरोप भी लगाया। बीएसपी नेताओं का कहना है कि मंगलवार की मीटिंग में उपचुनाव में कामयाबी हासिल करने और 17 जातियों को एससी में शामिल करने के बाद होने वाले नफा-नुकसान की काट तलाशने का काम किया जाएगा। बता दें कि वेस्ट यूपी की गंगोह (सहारनपुर), इगलास (अलीगढ़), रामपुर, टूंडला (फिरोजाबाद) सीट पर उपचुनाव होना है। एक सीट मुजफ्फरनगर की मीरापुर पर भी साथ में ही आयोग चुनाव करा सकता है। इसके अलावा गोविंदनगर (कानपुर), कैंट (लखनऊ), जैदपुर (बाराबंकी), मानिकपुर (चित्रकूट), बलहा (बहराइच), प्रतापगढ़, हमीरपुर, जलालपुर (अंबेडकरनगर) पर भी चुनाव होने हैं।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.