• संवाददाता

पार्टी को नए सिरे से खड़ा करने के लिए मुलायम सिंह यादव ने संभाली कमान


लखनऊ लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद अब समाजवादी पार्टी को नए सिरे से खड़ा करने और मजबूत स्थिति में लाने के लिए अब खुद मुलायम सिंह यादव ने कमान संभाल ली है। यादव अब लगातार पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से इस हार को लेकर फीडबैक ले रहे हैं। इसके अलावा आगे की रणनीति बनाने में भी जुट गए हैं। हालांकि पार्टी को मजबूत बनाने के लिए मुलायम सिंह यादव की क्या भूमिका होगी, इस पर एसपी के लोग अभी कुछ बोलने से बच रहे हैं। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव अब पूरे ऐक्शन में दिख रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से वह सीधे पार्टी कार्यालय पहुंच जा रहे हैं। यहां वह पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं से मिलते हैं और उनसे बातचीत करते हैं। बता दें कि मुलायम सिंह का नया आवास पार्टी कार्यालय के ही पास है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि पिछले कुछ दिनों में मुलायम सिंह यादव ने नेताओं खासकर पार्टी में साइडलाइन किए गए नेताओं से मुलाकात की है। एसपी के एक सूत्र ने कहा, मैं उनसे हाल ही में मिला। वह (मुलायम सिंह) पार्टी की वर्तमान स्थिति को लेकर चिंतित दिखे। लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद वह पार्टी के भविष्य को लेकर भी चिंतित हैं। मुझे लगता है कि पुराने नेताओं से फीडबैक लेकर उन्होंने निश्चित रूप से अखिलेश यादव को इसकी जानकारी दी होगी। एक अन्य एसपी सूत्र ने कहा, 'दोनों पिता और बेटे (मुलायम और अखिलेश) पार्टी नेताओं के साथ लखनऊ में बैठक कर चुके हैं। नेताजी सबसे पहले परिवार को एक करने की कोशिश में जुटे हैं। वह अनुभवी नेता हैं और इसका फायदा पार्टी को मिलेगा।' एसपी सूत्र ने आगे कहा, पार्टी से अलग हुए शिवपाल यादव भी हाल ही में नेताजी से मिले थे। हालांकि मैं यह तो नहीं बता सकता कि दोनों में क्या बातची हुई है लेकिन इतना जरूर है कि नेताजी पहले से ही शिवपाल को वापस पार्टी में शामिल करने के पक्ष में रहे हैं। एसपी के एक अन्य नेता ने कहा, 'अखिलेश यादव भी पार्टी को नए सिरे से खड़ा करने में जुटे हुए हैं। एसपी की तरफ से रविवार को ईद मिलन समारोह का आयोजन किया गया है। माना जा रहा है कि इस दौरान सभी पार्टी नेता जुटेंगे और आगे की रणनीति तय होगी।' पार्टी सूत्र ने कहा कि यह संभव है कि जनता से सीधे जुड़ने के लिए जल्द ही अखिलेश यादव देश भर में यात्राएं करें।