• संवाददाता

NDA संसदीय दल की बैठक शनिवार को, बीजेपी ने विजयी सांसदों को दिल्ली बुलाया


नई दिल्ली लोकसभा चुनाव में बीजेपी के नेतृत्व वाले NDA की रेकॉर्ड जीत के बाद नई सरकार गठित होने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस क्रम में NDA संसदीय दल की बैठक शनिवार को शाम 5 बजे बुलाई गई है। इसमें गठबंधन के सभी नवनिर्वाचित सांसद शामिल होंगे। बताया जा रहा है कि इस दौरान औपचारिक रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नेता चुना जा सकता है। उधर, शनिवार को ही बीजेपी संसदीय दल की भी बैठक होनी है। आपको बता दें कि बीजेपी ने अकेले 302 सीटें जीतकर इतिहास रच दिया है। एक सीट पर परिणाम अभी नहीं आए हैं, यहां बीजेपी आगे चल रही है। NDA गठबंधन की बात करें तो यह आंकड़ा 349 तक पहुंच गया है। वहीं UPA के खाते में 82 और महागठबंधन को मात्र 15 सीटें मिली हैं। BJP समेत समूचे सहयोगी दलों में जश्न का माहौल है और इसके साथ कैबिनेट में जगह को लेकर भी चर्चा का दौर शुरू हो गया है। हमारे सहयोगी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि इस बार पश्चिम बंगाल के चार सांसदों को कैबिनेट में जगह मिल सकती है। इस बात को लेकर स्टेट बीजेपी के नेता भी आश्वस्त दिख रहे हैं। दरअसल, लोकसभा चुनाव में जीत के बाद अब बीजेपी की नजर 2021 में होने वाला विधानसभा चुनाव पर हैं। फिलहाल बीजेपी के सभी सांसदों को शनिवार को दिल्ली बुलाया गया है। इससे पहले शुक्रवार को बीजेपी ने अपने संसदीय बोर्ड की बैठक में पारित प्रस्ताव के बारे में जानकारी दी। पार्टी के ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में बताया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आगामी 5 वर्षों में भारत को यशस्वी बनाते हुए नए भारत के निर्माण के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) कृतसंकल्पित होकर कार्य करेगा। एक अन्य ट्वीट में कहा गया, 'पिछले कार्यकाल में पीएम मोदी के नेतृत्व में सरकार की गरीब कल्याणकारी नीति, राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति स्पष्ट दृष्टिकोण, सबका साथ-सबका विकास के मूलमंत्र के साथ भारत की वैश्विक साख बढ़ाने के लिए यह जनता का सकारात्मक वोट है।' पार्टी के संसदीय बोर्ड की बैठक में कहा गया, 'यूपी-बिहार में तथाकथित गठबंधन की हार, बंगाल और पूर्वोत्तर में बीजेपी की अप्रत्याशित सफलता, दक्षिण में पार्टी के वोट प्रतिशत में वृद्धि इस बात का संकेत है कि पार्टी ने देश के सभी क्षेत्रों और वर्गों को सुशासन की नीतियों से जोड़ा है।' बीजेपी ने विपक्ष पर भी निशाना साधा। प्रस्ताव में कहा गया, 'इस चुनाव में विपक्ष ने लोकतंत्र को हराने की लगातार कोशिशें की। चुनाव प्रक्रिया को लेकर जिस प्रकार भ्रम फैलाया गया, उन सभी नकारात्मक विषयों को जनता ने स्पष्ट रूप से नकार दिया।' इस दौरान भाजपा संसदीय बोर्ड ने राजनीतिक हिंसा के शिकार कार्यकर्ताओं के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त की।