• संवाददाता

दिल्ली में BJP की आंधी, AAP हो गई साफ


नई दिल्ली दिल्ली में 2014 की तरह इस बार भी सभी 7 सीटों पर कमल खिल रहा है। बीजेपी के सातों उम्मीदवार अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ निर्णायक बढ़त ले चुके हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि 4 साल पहले विधानसभा चुनाव में 70 में से 67 सीटों पर परचम लहराने वाली आम आदमी पार्टी तीसरे स्थान पर है। कांग्रेस कुछ हद तक अपनी खोई जमीन वापस पाती दिख रही है और दूसरे स्थान पर है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले AAP के लिए यह तगड़ा झटका है। दिल्ली में कुल पड़े वोटों में आधे से भी ज्यादा बीजेपी के खाते में आए हैं। बीजेपी का वोटशेयर 56% से ज्यादा है। दूसरे नंबर पर कांग्रेस है, जिसका वोटशेयर 23 प्रतिशत के करीब है। AAP 18 प्रतिशत वोटशेयर के साथ तीसरे स्थान पर है, जो विधानसभा चुनाव से पहले उसके लिए खतरे की घंटी है। बीजेपी का वोटशेयर कांग्रेस और AAP के संयुक्त वोटशेयर से भी ज्यादा है, जिसका मतलब है कि अगर कांग्रेस और AAP गठबंधन करके भी लड़ी होतीं तो भी दिल्ली में बीजेपी का विजयरथ रोकना बेहद मुश्किल था। दिल्ली में सभी 7 सीटों पर बीजेपी उम्मीदवारों की जीत अब महज औपचारिकता दिख रही है। ईस्ट दिल्ली से बीजेपी के गौतम गंभीर, नई दिल्ली से बीजेपी की मीनाक्षी लेखी, चांदनी चौक से बीजेपी के हर्षवर्धन, नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली से बीजेपी के मनोज तिवारी, साउथ दिल्ली से बीजेपी के रमेश बिधूड़ी, वेस्ट दिल्ली से बीजेपी के प्रवेश वर्मा और नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली से बीजेपी के ही हंसराज हंस निर्णायक बढ़त बना चुके हैं। 5 सीटों पर कांग्रेस दूसरे नंबर पर है तो 2 सीटों पर आम आदमी पार्टी दूसरे नंबर है। कांग्रेस से चांदनी चौक से जेपी अग्रवाल, ईस्ट दिल्ली से अरविंदर सिंह लवली, नई दिल्ली से अजय माकन और नॉर्थ ईस्ट दिल्ली से शीला दीक्षित दूसरे स्थान पर हैं। आम आदमी पार्टी के गुग्गन सिंह नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली और राघव चड्ढा साउथ दिल्ली में दूसरे स्थान पर हैं।