• संवाददाता

दल मिले थे, अब दिल की बारी? राहुल संग पहली बार चुनाव में मंच साझा करेंगे तेजस्वी यादव


पटना कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और आरजेडी नेता तेजस्वी नेता शुक्रवार को एक साथ मंच साझा कर सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो इस आम चुनाव में दोनों पहली बार एक साथ मंच साझा करेंगे। शुक्रवार को राहुल गांधी की बिहार के समस्तीपुर में रैली है, जहां गठबंधन की ओर से कांग्रेस का उम्मीदवार चुनावी समर में है। राहुल गांधी की सभाओं में अब तक तेजस्वी यादव के नहीं आने से गठबंधन में उलझन की स्थिति पैदा हो रही थी। राहुल गांधी इससे पहले बिहार में 3 रैलियां कर चुके हैं और इन तीनों में तेजस्वी नहीं थे। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस ने खासकर सुपौल की रैली में तेजस्वी यादव को भी साथ लाने की पूरी कोशिश की थी, जहां पप्पू यादव की पत्नी रंजीता रंजन कांग्रेस की उम्मीदवार हैं। रंजीता रंजन 2014 में भी आरजेडी के सपोर्ट से जीती थी, जबकि पप्पू यादव तब मधेपुरा से आरजेडी के सांसद बने थे। लेकिन पप्पू यादव से विरोध के कारण इसका असर सुपौल की भी सीट पर दिखा और आरजेडी वहां गठबंधन के उम्मीदवार रंजीता रंजन के पक्ष में उतना मुखर नहीं रहा। हालांकि गठबंधन के दूसरे साथी उपेंद्र कुशवाहा और जीतन मांझी भी उस रैली में नहीं गए थे, लेकिन तेजस्वी यादव की अनुपस्थिति के बाद से ही राज्य में कांग्रेस-आरजेडी के बीच संबंधों को लेकर कयास लगने लगे थे। चुनाव के बीच उठे सवालों को समाप्त करने के लिए अंतत: शुक्रवार को तेजस्वी यादव राहुल गांधी के साथ वोट मांगते दिख सकते हैं। आरजेडी और कांग्रेस, दोनों दलों के नेताओं ने कहा कि अभी तक कार्यक्रम तय है और दोनों नेता समस्तीपुर की रैली में एक साथ दिखेंगे। राज्य में अब तक तीन चरणों में 14 सीटों पर चुनाव हो चुके हैं।