• संवाददाता

कैसे बीजेपी से निपटने को अपनी रणनीति मजबूत कर रही हैं ममता बनर्जी


कोलकाता बीते कुछ सालों से पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस एकछत्र राज करती रही है, लेकिन यह चुनाव उसके लिए बेहद कड़े हो सकते हैं। बीजेपी से उसे कड़ी चुनौती मिलती दिख रही है। राष्ट्रीय राजनीति में अपनी भूमिका मजबूत करने की कोशिश में जुटीं ममता बनर्जी किंगमेकर के तौर पर भी उभर सकती हैं। उनकी कोशिश है कि लोकसभा में बीजेपी और कांग्रेस के बाद तृणमूल कांग्रेस सीटों के मामले में नंबर तीन पर रहे। इसके लिए उन्होंने खास रणनीति बनाई है, जो उनके 42 सीटों के कैंडिडेट्स के चयन में भी दिखती है। उनकी यह रणनीति त्रिस्तरीय है। ममता बनर्जी ने 34 मौजूदा सांसदों में से 8 को टिकट नहीं दिया है, जबकि दो ने पार्टी छोड़ बीजेपी जॉइन कर ली है। इससे स्पष्ट है कि ममता बनर्जी ऐंटी-इन्कम्बैंसी से बचने के लिए सांसदों के टिकट काट नए उम्मीदवार उतार रही हैं। स्थानीय मुद्दों पर जनता की नाराजगी से बचने का यह कारगर उपाय कहा जा सकता है। बीजेपी से मिल रही टक्कर और जनता के रुझान को देखते हुए ममता बनर्जी ने 17 उम्मीदवार ऐसे तय किए हैं, जो पहली बार लोकसभा जाने की तैयारी में हैं या फिर उनकी सीट बदली गई है। सत्ता विरोधी लहर से निपटने का यह भी एक तरीका है। ममता का यह कार्ड भी अहम साबित हो सकता है। उन्होंने 40 पर्सेंट से ज्यादा टिकट महिला उम्मीदवारों को दिए हैं। महिलाओं को अपने पक्ष में करने का यह सबसे आसान तरीका साबित हो सकता है। इस बार सूबे में आम चुनाव की जंग तृणमूल बनाम बीजेपी दिख रही है। बीजेपी यहां एक मजबूत विपक्ष के तौर पर उभरी है और कई जिलों में लेफ्ट का सपॉर्ट बेस बुरी तरह कमजोर हुआ है। ऐसी स्थिति में लेफ्ट ने कांग्रेस संग मिलकर बीजेपी और तृणमूल के खिलाफ अस्तित्व की लड़ाई में उतरने का फैसला लिया है। ममता ने खुद मंगलवार को अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करने के बाद यह माना था कि यह चुनाव कठिन है और बीजेपी से कड़ी चुनौती मिल रही है। यही नहीं उन्होंने तो यहां तक कहा कि यदि माया और अखिलेश उन्हें आमंत्रित करते हैं तो वह वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ कैंपेन करेंगी। बुधवार को बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में अपने तेवर कड़े करते हुए चुनाव आयोग से मांग करते हुए सूबे को अतिसंवेदनशील घोषित करने की मांग की। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के नेतृत्व में मिले नेताओं ने कहा कि बंगाल में होने वाली हिंसा को ध्यान रखते हुए अतिसंवेदनशील क्षेत्र घोषित करने की मांग की। यही नहीं बीजेपी ने सभी पोलिंग बूथों पर केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात करने की मांग की।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.