• संवाददाता

बेटे गौतम सिंघानिया को गिफ्ट की गई संपत्ति वापस लेने कोर्ट जाएंगे विजयपत सिंघानिया


नई दिल्ली विजयपत सिंघानिया ने 3 साल पहले रेमंड ग्रुप का स्वामित्व अपने बेटे गौतम सिंघानिया के हाथों सौंप दिया। तब उन्होंने सोचा था कि अरबों के टेक्सटाइल बिजनस परिवार के अधीन रह जाएगा। लेकिन, अब वह अपने फैसले बहुत पछता रहे हैं। उनका आरोप है कि उन्होंने जिस बेटे को इतना बड़ा कारोबारी साम्राज्य सौंप दिया, उसी ने उन्हें न केवल कंपनी के दफ्तरों से बल्कि अपने फ्लैट से भी निकाल दिया। लेकिन, विजयपत को एक कोर्ट के हालिया आदेश से न्याय की उम्मीद जगी है। अब वह अपने बेटे को गिफ्ट की गई प्रॉपर्टी वापस लेने की लड़ाई लड़ना चाहते हैं।

...ताकि फिर न हो ऐसी लड़ाईॆ क्रेडिट सुइस की एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारत दुनियाभर की बड़ी-बड़ी कंपनियों पर कुछ परिवारों के नियंत्रण के लिहाज से चीन और अमेरिका के बाद तीसरे स्थान पर आता है। ऐसे में विश्लेषकों का मानना है कि सत्ता-संघर्ष और कंपनियों पर नियंत्रण की नई पीढ़ी बढ़ती चाहत के बीच ऐसी कंपनियों के बेहतर संचालन के लिए भारत में ग्लोबल कॉर्पोरेट स्टैंडर्ड्स को ज्यादा तवज्जो देने की जरूरत भी बढ़ गई है। इससे सिंघानिया,अंबानी, सिंह जैसे कारोबारी घरानों में सत्ता संघर्ष को ऐसे भयावह दौर में पहुंचने से रोका जा सकता है।

छोटी कंपनी से रेमंड ग्रुप का सफर फिलहाल, विजयपत सिंघानिया की कहानी। 80 साल पहले छोटे स्तर पर शुरू हुआ टेक्सटाइल बिजनस धीरे-धीरे देश के घर-घर तक पहुंच गया और आज रेमंड ग्रुप का दावा है कि वह दुनियाभर में सबसे ज्यादा हाई क्वॉलिटी के ऊनी सूट्स बनाता है। ग्रुप का सीमेंट, डेयरी और टेक्नॉलजी सेक्टर में भी कारोबार चल रहा है।

ऐसे शुरू हुआ झगड़ा विजयपत के लिए मुश्किलें खड़ी होनी शुरू हुईं जब उन्होंने अपने 2015 में रेमंड ग्रुप का कंट्रोलिंग स्टेक (50% से ज्यादा शेयर) अपने 37 वर्षीय पुत्र गौतम सिंघानिया को दे दिया। पारिवारिक झगड़े को समाप्त करने के उद्देश्य से वर्ष 2007 में हुए समझौते के मुताबिक विजयपत को मुंबई के मालाबार हिल स्थित 36 महल के जेके हाउस में एक अपार्टमेंट मिलना था। इसकी कीमत बाजार मूल्य के मुकाबले बहुत कम रखी गई थी। बाद में कंपनी गौतम सिंघानिया के हाथों आ गई तो उन्होंने बोर्ड को कंपनी की इतनी मूल्यवान संपत्ति नहीं बेचने की सलाह दी।

सत्ता-संघर्ष का विकृत रूप बाप-बेटे के बीच विवाद बढ़ा तो पिता से रेमंड ग्रुप के 'अवकाशप्राप्त चेयरमैन' का तमगा भी छीन लिया + गया। उन पर गाली-गलौज की भाषा के इस्तेमाल का आरोप लगाया गया। इस पर विजयपत सिंघानिया ने कहा कि उन्हें उनके दफ्तर से निकाल दिया गया और उनके अधिकार छीन लिए गए। उन्होंने देश के प्रतिष्ठित पुरस्कार पद्म भूषण की चोरी का भी आरोप लगाया।

विजयपत का नया दांव विजयपत का कहना है कि उन्होंने पिछले 2 वर्षों में बेटे से एक बार भी बात नहीं की। अब वह कोर्ट के उस हालिया आदेश के तहत बेटे के खिलाफ कदम उठाने की सोच रहे हैं जिसमें 2007 के कानून के तहत मूलभूत जरूरतें पूरी नहीं होने के सूरत मेंअपने बच्चों को उपहार में दी गई संपत्ति वापस लेने का अधिकार दिया गया है। वह बेटे गौतम सिंघानिया को रेमंड ग्रुप का मालिकाना हक प्रदान करने के फैसले को आले दर्जे की मूर्खता बताते हैं। हालांकि, बेटे गौतम का कहना है कि वह सिर्फ अपना दायित्व निभा रहे हैं।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.