• वंदिता मिश्रा लखनऊ

बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले बोलीं, ' मैं बीजेपी की गुलाम नहीं हूं, दलित की बेटी हूं'


लखनऊ अखिल भारतीय पिछड़ा वर्ग महासंघ के कार्यक्रम में लखनऊ के उर्दू अकादमी पहुंचीं बहराइच सांसद सावित्री बाई फुले ने बीजेपी को दलित और पिछड़ा नीतियों पर खूब आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि वह बीजेपी की नहीं बल्कि दलित की बेटी हैं। आरक्षण खत्म होने की साजिश चल रही है। फुले ने कहा कि आरक्षण खत्म होने की साजिश संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान से समझी जा सकती है, जिसमें वह कहते हैं कि आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए। बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यन स्वामी भी कहते हैं कि आरक्षण ऐसा कर दिया जाएगा कि उसका रहना और न रहना बराबर हो जाएगा। ये जो साजिश चल रही है, इससे आपको सचेत रहना होगा।

'हमें फिर से गुलाम बनाने की तैयारी' बीजेपी सासंद ने कहा कि संविधान सुरक्षित नहीं रहा तो बहुजन समाज और पिछड़े सुरक्षित नहीं रहेंगे। ये हमें फिर से गुलाम बनाना चाहते हैं। ये हमारे लिए वही समय लाना चाहते हैं जब हमारे गले में हांडी, कमर में झाड़ू और घंटी बांधी जाती थी। ये वही लोग हैं जो मानते हैं कि महिला और शूद्र को अनपढ़ होना चाहिए। उन्‍होंंने कहा, 'मैं सांसद नहीं बनती अगर बहराइच की सीट सुरक्षित नहीं होती। बीजेपी की मजबूरी थी कि उन्हें जिताऊ उम्मीदवार चाहिए था तो मुझे टिकट दिया गया। मैं उनकी गुलाम नहीं हूं। अगर सांसद होकर भी अपने लोगों की बात न कर सकूं तो क्या फायदा?'

गांधी भी नहीं बर्दाश्त कर सके थे आरक्षण सावित्री बाई फुले ने कहा कि गांधीजी भी आरक्षण नहीं बर्दाश्त कर सके थे। वे अनशन पर बैठ गए थे। उन्होंने बताया कि वे 16 को झूलेलाल पार्क में रैली करूंगी और यहां ऐलान करूंगी। आरक्षण पूरी तरह लागू करो वरना कुर्सी खाली करो।

वक्त सतर्क रहने का है पूर्व आईएएस अनीस अंसारी ने कहा- यह वक्त सतर्क रहने का है। लोग गुलाम बनाए रखना चाहते हैं। आरक्षण खत्म करने की हर संभव कोशिश करेंगे। दलितों और पिछड़ों को अपने हक में खड़ा होना होगा। इस साजिश के खिलाफ लड़ना होगा।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.