• Umesh Singh,Delhi

मैं लोगों को इतिहास से नहीं, उनकी गतिविधियों से जज करता हूं: CJI दीपक मिश्रा


नई दिल्ली चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने सोमवार को अपनी फेयरवेल स्पीच में कहा, 'मैं लोगों को इतिहास से नहीं बल्कि उनकी गतिविधियों और परिप्रेक्ष्य से जज करता हूं।' इससे पहले उन्होंने कहा, 'मैं कहना चाहता हूं कि मुझे बोलने की अनुमति दीजिए, जिससे मैं अपने तरीके से बोल सकूं। पिछली बार जब मैंने स्पीच दी थी तो जस्टिस नरीमन ने कुछ कहा था कि तो मैंने उसे समझा।' चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने भारतीय न्यायतंत्र को दुनिया की सबसे मजबूत संस्था बताया। साथ ही उन्होंने कहा कि न्याय का चेहरा हमेशा मानवीय होना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने कहा कि वह बार असोसिएशन के कर्जदार हैं और वह यहां से पूरी संतुष्टि के साथ विदा ले रहे हैं। इस दौरान उन्होंने कार्यक्रम में बैठे हुए लोगों के साथ 'सिटिंग लव' और खड़े लोगों से 'स्टैंडिंग लव' की इच्छा जताई और इसे वास्तविक प्रेम बताया। CJI ने कहा कि भारतीय न्यायपालिका दुनिया के सबसे मजबूत सिस्टम में से एक है और इसके लिए जजों की भूमिका को प्रमुख बताया। उन्होंने युवा वकीलों की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि युवा वकीलों और स्टूडेंट्स के पास असीमित क्षमता है।

'सोसायटी बच्चे की दूसरी मां' उन्होंने आगे कहा कि सोसायटी बच्चे की दूसरी मां होती है। अमीर और गरीब के आंसू एक समान होते हैं। उन्होंने कलीजियम सिस्टम की भी तारीफ की, जिससे सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम बना हुआ है। सच्चाई का कोई कलर नहीं होता है। इसके लिए साहस, कैरेक्टर की जरूरत पर बल दिया। इस दौरान उन्होंने अपने साथी जजों को याद किया। इससे पहले जस्टिस रंजन गोगोई ने CJI मिश्रा के विजन को लेकर उनकी तारीफ की। आपको बता दें कि जस्टिस गोगोई ही अगले चीफ जस्टिस होंगे।