• संवाददाता

भारत-पाक के विदेश मंत्रियों की प्रस्तावित बैठक को अमेरिका ने कहा 'शानदार खबर'


वॉशिंगटन भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की होने जा रही मुलाकात को अमेरिका ने 'शानदार खबर' बताया है। आपको बता दें कि न्यू यॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की एक अहम बैठक होने जा रही है। अमेरिका ने उम्मीद जताई है कि इससे भविष्य में दोनों पड़ोसी देशों के बीच अच्छे और मजबूत संबंध का मार्ग प्रशस्त होगा। 2016 में पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के बीच टॉप लेवल की यह पहली बड़ी वार्ता होगी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच यह मुलाकात होने जा रही है। हालांकि भारत ने साफ कहा है कि यह भारत-पाक वार्ता की बहाली नहीं है। अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता हीथर नॉर्ट ने पत्रकारों से कहा, 'हमने भारत और पाक के नेताओं की मुलाकात को लेकर न्यूज रिपोर्ट देखी है। मेरा मानना है कि यह भारतीयों और पाकिस्तानियों के लिए बड़ी खबर है कि उनके नेता साथ बैठेंगे और बातचीत करेंगे।'

नॉर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान के बीच संदेशों के आदान-प्रदान का भी स्वागत किया। उन्होंने कहा, 'हमने प्राइम मिनिस्टर खान और प्राइम मिनिस्टर मोदी के बीच सकारात्मक संदेशों के आदान-प्रदान की रिपोर्ट देखी है। हम उम्मीद करते हैं कि भविष्य में अच्छे, मजबूत द्विपक्षीय संबंध के लिए परिस्थितियां तैयार की जाएंगी।' आपको बता दें कि दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की अंतिम मुलाकात दिसंबर 2015 में सुषमा स्वराज की इस्लामाबाद यात्रा के दौरान हुई थी, जब वह हार्ट ऑफ एशिया समिट में हिस्सा लेने गई थीं। उस समय सुषमा पाकिस्तान के तत्कालीन विदेश मंत्री सरताज अजीज से मिली थीं। मीटिंग के बाद दोनों पक्षों ने भारत-पाक वार्ता बहाली की घोषणा की थी, लेकिन यह कोशिश जल्द ही नाकाम हो गई। पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठनों ने पठानकोट एयरबेस पर हमला कर दिया और एक बार फिर संबंध तनावपूर्ण हो गए।

पठानकोट हमले के बाद पाकिस्तानी आंतिकयों की ओर से कई हमले किए गए और भारत ने LoC पार कर सितंबर 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक कर करारा जवाब दिया। भारत लगातार कहता आ रहा है कि आतंकवाद और वार्ता साथ नहीं चल सकते हैं। उधर, अमेरिका ने भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता का समर्थन किया है, जिससे तनाव कम हो।