• आकांशा त्रिपाठी

NSUI का आरोप, DUSU अध्यक्ष ने फर्जी डिग्री के साथ लिया है दाखिला


नई दिल्ली कांग्रेस समर्थित एनएसयूआई ने आरोप लगाया है कि डीयू चुनाव में अध्यक्ष चुने गए आरएसएस संबद्ध एबीवीपी के अंकिव बासोया ने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर यूनिवर्सिटी में दाखिला पाया है। एबीवीपी का हालांकि कहना है कि डीयू ने वेरिफिकेशन के बाद अंकिव को दाखिला दिया है। एनएसयूआई ने तिरुवल्लुर यूनिवर्सिटी की चिट्ठी जारी की है। इसमें लिखा गया है कि बासोया द्वारा यूनिवर्सिटी की पेश डिग्री फर्जी है। एनएसयूआई ने कहा कि बासोया ने एम (बुद्धिस्ट स्टडीज) के लिए जो मार्कशीट दिया है , लेकिन तिरुवल्लुर यूनिवर्सिटी साफ किया है कि उनके पास इस नाम से किसी स्टूडेंट ने दाखिला नहीं लिया था और उस सीरियल नंबर के मार्कशीट उनकी रिकॉर्ड में नहीं हैं। एक बयान में एबीवीपी ने एनएसयूआई के आरोपों को कुप्रचार करार दिया है। एबीवीपी ने कहा, 'डीयू ने अंकिव बासोया को दस्तावेजों की जांच के बाद दाखिला दिया है। यह डीयू की प्रक्रिया है। आज भी डीयू के पास पूरा अधिकार है कि वह स्टूडेंट के दस्तावेजों को वेरिफाय करे। लेकिन यह किसी को सर्टिफिकेट देना एनएसयूआई का काम नहीं है। डीयू के पास न सिर्फ अंकिव बल्कि डूसू के सभी पदाधिकारियों के दस्तावेजों को वेरिफाय करने का अधिकार है ताकि भविष्य में ऐसी अफवाहों पर रोक लगाई जा सके।' बता दें कि हाल ही में हुए छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने तीन सीटों पर जीत हासिल की है।