• सौरभ चटर्जी,लखनऊ

गठबंधन पर योगी का तंज, बोले- यूपी में नया 'चिपको आंदोलन'


लखनऊ यूपी में कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष के निशाने पर रहने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को पलटवार किया। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था पर प्रश्न खड़े करने वालों को 'दृष्टिदोष' हो गया है। इस दौरान सीएम ने एसपी, बीएसपी और कांग्रेस के संभावित गठबंधन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में नया 'चिपको आंदोलन' चल रहा है। उन्होंने कहा कि बीएसपी कहती है कि एसपी से उसकी दूरी है, पर पता नहीं कितनी दूरी है।' योगी विधानसभा में अनुपूरक बजट पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा, 'प्रदेश की आज की कानून व्यवस्था पर जो प्रश्न खड़ा कर रहा है, मुझे लगता है कि उसे किसी नई दृष्टि की आवश्यकता है। इसे हम दृष्टिदोष कह सकते हैं। 16 महीने में उत्तर प्रदेश में एक भी दंगा नहीं हुआ।' उन्होंने कहा कि प्रदेश में आज निवेश आ रहा है। योगी ने कहा, 'फरवरी में इन्वेस्टर्स समिट किया था। पहले लोग हंसते थे क्योंकि प्रदेश की ऐसी तस्वीर बना दी गई थी कि उत्तर प्रदेश में अराजकता और गुंडागर्दी है। आज देश और दुनिया का हर उद्योगपति उत्तर प्रदेश में निवेश का इच्छुक दिखाई दे रहा है।'

'शरणार्थियों का सम्मान पर घुसपैठियों का नहीं' मुख्यमंत्री ने कहा, 'राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर पर असम सरकार की पहल सार्थक है। हम शरणार्थियों को सम्मान दें। हर तरह की सुविधा दें। ये भारत की नीति रही है लेकिन घुसपैठिये के रूप में आकर जो भारत के वंचितों, गरीबों और नागरिकों के हितों पर डकैती डालने का प्रयास कर रहे हैं, उन्हें इस तरह की छूट नहीं दी जा सकती है।'

कांग्रेस पर भी साधा निशाना सीएम ने कहा कि दलितों के साथ 15 वर्ष तक एसपी और बीएसपी सरकारों ने अन्याय किया। शासन की योजनाओं से वंचित किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी के लोकसभा क्षेत्रों अमेठी और रायबरेली का उल्लेख करते हुए योगी ने कहा, 'अमेठी और रायबरेली की स्थिति क्या थी हर कोई जानता है। वहां जिला मुख्यालय नहीं था, मुख्य चिकित्साधिकारी का कार्यालय नहीं था। रायबरेली में एम्स की घोषणा कब की हो गई थी लेकिन उसे युद्धस्तर पर हमने पूरा किया। वहां हम ओपीडी का कार्य शुरू कर चुके हैं।'

'विकास के हर मुद्दे पर हो चर्चा' योगी ने विपक्ष की नामौजूदगी में अपना भाषण किया। उन्होंने कहा कि सदन चर्चा का मंच बनना चाहिए। प्रदेश से जुड़ी हर योजना पर यहां चर्चा होनी चाहिए। सीएण ने कहा, 'प्रदेश के विकास के बारे में सत्ता पक्ष- विपक्ष को मिलकर आगे बढ़ना चाहिए लेकिन जब विकास किया हो तो विकास में रूचि हो। यहां केवल अपने महलों को बनाने में लोगों को रूचि रही है। खुद का घर बन जाए, किसी और का बने या ना बने। योगी ने कहा कि विपक्ष खिसियाहट को मिटाने के लिए सदन से वॉकआउट का बहाना करते हैं। सदन की कार्यवाही बाधित करते हैं। कहीं ना कहीं ये दिखाने का प्रयास करते हैं कि हम इस विकास और सुरक्षा के नये माहौल को कहीं ना कहीं बाधित करना चाहते हैं।'