• ए. सुफियान, घाटमपुर

ग्रामीण पुलिसिया उत्पीड़न का शिकार


घाटमपुर।

चौकी क्षेत्र बिरहर के ग्राम असेनिया के ग्रामीणों ने वार्ता कर आरोप लगाया है कि गांव के असरदार दबंगों के प्रभाव में आकर थाना पुलिस गांव के इज्जतदार शरीफों पर फर्जी मुकदमा कायम कर उत्पीड़न कर रही है ।गांव के चौकीदार दशरथ ने बताया कि बीते दिनों जिन लोगों पर मुकदमा कायम किया गया है वह गांव के इज्जतदार लड़ाई झगड़े से दूर रहने वाले लोग हैं । ज्ञात हो कि ग्राम असेनिया के रघुनाथ पाल के पुत्र जितेंद्र का अपने पारिवारिक जनों से अरसा करीब 20 वर्षों में संपत्ति का विवाद चल रहा है। जितेन्द्र का आरोप है कि बीते 11 जुलाई को परिवार के ही श्रवणपाल धर्मेंद्र कुमार राम सेवक ने अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर उसके घर पर चढ़ाई कर दी थी, और जीतेंद्र और उसकी पत्नी के साथ भारी मारपीट की थी जिससे से जीतेंद्र का सर फट गया था। जीतेंद्र का आरोप है कि थाना पुलिस से शिकायत करने पर रिपोर्ट दर्ज करने के एवज में उससे भारी रकम की मांग की गई। जिस में असमर्थता जताने पर उसे थाने से भगा दिया गया और उल्टा विपक्षियों से मिलकर जीतेंद्र और गांव के ही वृद्ध रिटायर्ड नायब तहसीलदार सूरज गौतम पर अलग-अलग घटनाएं दिखाकर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर दिया जबकि सूरज गौतम का जीतेंद्र से कोई वास्ता नहीं है। जितेंद्र और सूरज का आरोप है कि पुलिस की शह पर दबंग विपक्षियों ने उनका जीना हराम कर रखा है और पुलिस कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है ।दबंगों के डर से सूरज और जीतेंद्र गांव छोड़ने पर मजबूर हैं इस विषय पर ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस रसूखदार लोगों से धन वसूल कर राजनीतिक प्रभाव में आम लोगों की जिंदगी बर्बाद करने का काम कर रही है।