नवाज, मरियम और पानामा के बारे में जानें 10 जरूरी बातें

 

इस्लामाबाद 
पनामा पेपर केस में कैद की सजा पाने वाले पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को लाहौर लौटते ही गिरफ्तार करने की तैयारी कर ली गई है। शरीफ को 10 साल और उनकी बेटी मरियम को 7 साल कैद की सजा सुनाई गई थी। नवाज, मरियम और पनामा पेपर केस के बारे में जानें ये 10 महत्वपूर्ण बातें: 

1. 2016 में पनामा पेपर केस में नाम आने के बाद नवाज शरीफ को जुलाई 2017 में प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। पेपर में बताया गया था कि शरीफ और उनके बच्चे (जिनमें मरियम भी शामिल हैं) ब्रिटिश वर्जिन आइसलैंड में कंपनी है। 

2. इन कंपनियों में नेस्कोल लिमिटेड, नीलसेन एंटरप्राइजेज लिमिटेड और हैंगोन प्रॉपर्टी होल्डिंग्स लिमिटेड की साल 1993, 1994 और 2007 में स्थापना की थी। 

3. पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने साल 2017 में मामले की जांच का आदेश दिया। मामले में पर्याप्त सबूत न मिलने की वजह से मामले को संयुक्त जांच समिति को भेजा गया था। 

4. जेआईटी (जॉइंट इन्वेस्टिगेशन टीम) को पता चला कि शरीफ की ब्रिटिश वर्जिन आइसलैंड कंपनियों का इस्तेमाल शरीफ और उनके परिवार के लोगों के नाम पर संपत्ति खरीदने के लिए किया गया। जेआईटी की जांच के आधार पर शरीफ के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मुकदमा दर्ज किया गया। 

5. अन्य चीजों के साथ जेआईटी को जानकारी मिली कि लंदन के पॉश मेफेयर में शरीफ के बेटे और बेटी मरियम के नाम पर प्रॉपर्टी है। मरियम वर्जिन आइसलैंड कंपनियों में भी हिस्सेदार है। जेआईटी ने 10 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सब्मिट की। 

6. एक पाकिस्तानी ट्राइब्यूनल कोर्ट ने पिछले शुक्रवार को शरीफ और उनकी बेटी मरियम को दोषी पाया और कैद की सजा सुनाई। दोनों को उनकी अनुपस्थिति में सजा सुनाई गई, दोनों उस दौरान लंदन में थे, वहीं शरीफ की पत्नी गंभीर तौर पर बीमार हैं। 

7. शरीफ ने आरोप लगाया कि वह 'गलत न्यायिक प्रक्रिया' का शिकार हुए हैं। शरीफ ने कहा कि दिसंबर 2016 में मीडिया ने पाकिस्तान मिलिटरी और चुनी हुई सरकार के बीच बढ़ते विवाद के बारे में बताय था। 

8. शुक्रवार को लंदन से लाहौर लौटते वक्त, (पाकिस्तान में करीब 6:15 PM) अथॉरिटियों ने शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन (पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज) के करीब 300 से ज्यादा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है, ताकि वे अपने नेता के समर्थन में रैली का आयोजन न कर सकें। 

9. अबु धाबी से लाहौर की फ्लाइट लेने के समय शरीफ ने कहा, 'मुझे सीधे जेल ले जाया जाएगा, लेकिन मैं यह सब पाकिस्तान के लोगों के लिए कर रहा हूं। ऐसा मौका फिर नहीं मिलेगा। आओ साथ मिलकर पाकिस्तान का भाग्य बनाएं।' 

10. पाकिस्तान में चुनाव जुलाई 25 से होने हैं। इस मामले का असर पाकिस्तान के चुनाव पर भी होगा। तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान खान को इसका सबसे ज्यादा फायदा होगा। शरीफ के खिलाफ याचिका देने वालों में एक इमरान खान भी थे। 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.