• कर्म कसौटी

बच्चियों को 'कैद' करने वाले राबिया स्कूल में पूछताछ करने पहुंचे मंत्री और अफसर


नई दिल्ली फीस के नाम पर चांदनी चौक के राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल में 59 बच्चियों को बंधक बनाने के मामले ने काफी तूल पकड़ लिया है। स्कूल के बाहर जमकर हंगामा हो रहा है और शिक्षा विभाग की टीम जांच के लिए वहां पहुंच चुकी है। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने भी इस घटना को हैरान कर देने वाला बताया है और ऐक्शन लेने की बात कही है। साथ ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस मामले में सेक्रेटरी और एजुकेशन डायरेक्टर को सभी तथ्यों के साथ तलब किया है। स्कूल में 5 घंटे कैद रखी गईं 59 बच्चियां इस मामले में दिल्ली के खाद्य मंत्री इमरान हुसैन ने राबिया स्कूल की प्रिंसिपल से कड़े सवाल पूछे। उन्होंने पूछा कि स्कूल ने सरकारी नियमों का पालन क्यों नहीं किया। स्कूल इस पर चुप्पी साधे हुए है। इमरान ने कहा कि सरकार के नियमों के मुताबिक, फीस न देने पर कोई भी बच्चों को स्कूल में या क्लास में बैठने से रोका नहीं जा सकता। मंत्री ने स्कूल की प्रिंसिपल को फटकार लगाते हुए मामले को गंभीर व शर्मनाक बताया है। इमरान ने मामले को बहुत दिल दहलाने वाला बताते हुए कहा कि जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। फीस न जमा कराने पर दिल्ली सरकार का ऑर्डर है कि क्लास में बैठने से नहीं रोक सकते, कोई हादसा होता तो कौन जिम्मेदार होता। बच्चों पर जुर्म बर्दाश्त नहीं करेंगे कोई भी हो सख्त कार्रवाई करें। स्कूल पर एफआईआर दर्ज की जा चुकी है। स्कूल का कहना है कि जून महीने की फीस न जमा किए जाने के कारण बच्चियों को सजा दी गई लेकिन पैरंट्स कह रहे हैं कि फीस जमा की जा चुकी है। बता दें कि स्कूल में 2000 से ज्यादा छात्राएं पढ़ती हैं और मासिक फीस 3000 रुपये है। बता दें कि दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने इस घटना पर दो मेंबरों की जांच कमिटी बना दी थी, जो स्कूल की जांच करेगी।