कविता सागर

                     हमारा मन सागर ही तो है ,
             उठती गिरती हैं तरंगे अनेक
             विविध भावनाओं की ।
             सागर की अथाह गहराई
             पार पा न सका कोई 
             अब तक प्रयास जारी है।
             मन भी सागर सरीखा है
             जान न सका कोई इसको
             जानने का प्रयास कर डाला
             अनेकों तरीके से ।
             सागर के ज्वार भाटे में 
             अनेक दर्द सिमटा है ।
             कितनी नदियों का समर्पण
             मासूम पीड़ा है ।
             मन भी तो न जाने कितने
             दर्द को समेटे हुए 
             अपने ज्वार भाटे की
             अभिव्यक्ति देता है ।
             सागर आखिर सागर है
             समा लेता है 
             बिना चाहत के
             घहराती उफनती 
             नदी के जल को खुद में ।
             मन भी समाता है
             अपने और पराये
             सभी के दिये हुए
             अनचाहे प्रदत्त
             पीड़ा को ।
             सागर मन , 
             मन सागर है ..........।

डा.सरला सिंह
नई दिल्ली

 

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.