• राजेश तिवारी

क्यो अपने जान से खिलवाड़ करने पर मजबूर हैं रेल यात्री ?


कही मजबूरी तो कही जान बूझ कर पादचारी पुल होने के बावजूद पटरी पार करते हैं रेल यात्री?

मुम्बई :(राजेश तिवारी)

मध्यरेल के शहाड़ रेलवे स्टेशन पर कसारा की दिशा में रेल यात्रियों द्वारा पादचारी पुल बनाये जाने की मांग वर्षो से की जा रही है लेकिन रेल के अधिकारियों द्वारा यात्रियों की मांग को नजरअंदाज किया जा रहा है और वर्षो पहले बने पादचारी पुल की हालत अति जर्जर अवस्था मे हो चुकी है जिसके मरम्मत का कार्य शुरू हुआ था लेकिन न जाने किस कारण बस ये काम बंद पड़ा है और रेल अधिकारियों के पास इस बंद पड़े हुए काम का जबाब नही है इसी कारण पटरी पार करना आम नागरिकों व रेल यात्रियों की मजबूरी हो गई है आपको बतादे की इस जगह पटरी पार करते हुए वर्ष भर में न जाने कितने यात्री अपनी जान गवा चुके है यह तो रही यात्रियों की मजबूरी लेकिन आपको बतादे की हमारे भारत के लोग जानबूझ कर भी अपना जान जोखिम में डालने के शौकीन होते हैं इसी शहाड़ रेलवे स्टेशन पर कल्याण की दिशा में कुछ महीने पहले रेलवे द्वारा एक पादचारी पुल का निर्माण किया गया है उसके बावजूद रेलयात्रियों द्वारा घर जाने की जल्दबाजी में जानबूझ कर पटरी पार करते है। रेलयात्री पटरी पार करे इसके लिए उचित कदम उठाने की मांग अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के युवा अध्यक्ष राणा प्रताप सिंह ने की है उन्होंने ने रेल अधिकारियो से आग्रह किया है कि कसारा के दिशा में नया पादचारी पुल बनाने व जर्जर हो चुके पादचारी पुल के दुरुस्त करने का काम अविलम्ब पूरा करे व रेल यात्रियों से अनुरोध किये है कि पटरी पार कर अपनी जान जोखिम में न डाले। शहाड़ रेलवे स्टेशन के प्रभारी मुकुल चौधरी ने रेल यात्रियों को हो रही समस्याओ को निजात दिलाने का आश्वासन दिया है उन्होने कहा कि रेल यात्रियों को अपनी जान जोखिम में न डाले पादचारी पुल का ही उपयोग करें।