• रिषभ गर्ग

बच्चों ने 03 दिवसीय कार्यशाला में सीखी पुलिस की कार्यप्रणाली, सुभाष चिल्ड्रेन होम की खुशबू ने जीता प


कानपुर, 27 जुलाई।

पुलिस विभाग द्वारा पुलिस लाइन कानपुर नगर में स्कूली बच्चों के लिए समर कैम्प का आयोजन किया गया जिसमें स्कूली बच्चों सहित मा0 जिला प्रोबेशन अधिकारी की सलाह पर सुभाष चिल्ड्रेन होम के 05 बच्चों (लाली,ललीशा, गुडिया, खुशबू व टिवंकल) ने प्रतिभाग किया जिसमें तरह तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित की गई थी जिसका प्रतिनिधित्व सुभाष चिल्ड्रेन होम के बच्चों के टीम लीडर गौरव सचान द्वारा किया गया जिसके समापन पर पुलिस विभाग द्वारा विजयी बच्चों को पुरूस्कृत भी किया जिसमें सुभाष चिल्ड्रेन होम की खुशबू को पेटिंग प्रतियोगिता में पुरूस्कार दिया गया। डी0जी0पी0 के निर्देश पर हुए 03 दिवसीय समर कैम्प में बच्चों को पुलिस विभाग द्वारा योग व फिटनेस के गुर सिखाए, जिसके साथ ही ट्रैफिक पुलिस, थानों,आई0टी0एम0एस0 कंट्रोल रूम, सडक नियमों आदि के बारे में जाना।साथ ही बच्चों को बाल अपराधों के बारे में भी जागरूक किया गया। साथ ही कार्यशाला के तीसरे दिवस पर बच्चों को डाॅग स्कवाड व किशोर न्याय बोर्ड की प्रणाली के बारे में भी बताया गया। कार्यशाला के तीसरे दिवस पर समापन पर ए0डी0जी0 श्री अविनाश चन्द्र व एस0एस0पी0 अखिलेश कुमार द्वारा बच्चों को पुरूस्कार व प्रशस्ति पत्र दिए जिसमें सुभाष चिल्ड्रेन होम की खुशबू को पेटिंग प्रतियोगिता में पुरूस्कार दिया गया। सुभाष चिल्ड्रेन होम के प्रबंधक कमलकान्त तिवारी ने बतााया कि यह पहला ऐसा होम है जिसके बच्चों ने पुलिस विभाग द्वारा आयोजित 03 दिवसीय कार्यशाला में भाग लिया ।साथ ही उन्होने बताया कि बच्चों के लिए बने अन्य होम या आश्रय गृहों में बच्चों को एक तरह से नियम कानूनों के तहत बंधक बनाकर रखा जाता है लेकिन सुभाष चिल्ड्रेन होम में बच्चों को हमारे द्वारा एक घर जैसा माहौल देने का प्रयास किया जाता है जिसके साथ ही रोटरी इण्टरनेशनल के रोटरी यूथ लीडरशिप अवार्ड-2017-18 (रैला) का आयोजन रोटरी क्लब अलीगढ द्वारा अग्रसेन सेवा सदन जी0टी0 रोड अलीगढ में दिनांक 28 दिसम्बर से 31 दिसम्बर 2017 तक किया गया था जिसमें विभिन्न जिलों के रोटेरियन्स के सैकडों बच्चों सहित सुभाष चिल्ड्रेन होम के 04 बच्चांें ने भाग लिया जिसमें लालू उर्फ तुषार को बेस्ट पार्टीसिपेन्ट ब्याय का अवार्ड अपर जिलाधिकारी अलीगढ श्री पंकज वर्मा द्वारा दिया गया था जिसके साथ ही बच्चों द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों मे प्रतिभाग करके पुरूस्कार जीते गए है और संस्था का नाम रोशन किया गया है। साथ ही उन्होने बताया कि यह कार्यशाला इन अनाथ एवं जरूरतमदं बच्चों के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होगी जिससे इनका रचनात्मक एवं मानसिक विकास के साथ साथ उनकी प्रतिभा एवं तकनीकी ज्ञान क्षमता का विकास होगा और उनमें यह अभिरूचि पैदा होगी कि वह भी कुछ कर सकते है और समाज के सामने प्रस्तुत कर सकते है।