*भाईयो का प्रेम*

 

एक समय की बात है एक गाँव मे एक किसान रहता था।
उसके चार बेटे थे  दीपू ,कीनू ,सुरु औऱ हितु चारों की उम्र में लगभग दो वर्ष का अंतराल था । चारो भाईयो में आपस में बहुत ज्यादा प्रेम था मानो चार शरीर और एक आत्मा । वे अपने सभी क्रियाकलाप साथ - साथ ही करते थे।

उनके बहुत सारे खेत थे, वे अपना आधे से अधिक समय खेतो पर ही व्यतीत करते थे । उनके खेतो पर आम और जामुन के  2 पेड़ थे ,  चारो भाई सुबह 5 बजे उठकर दौड़ते हुए जामुन खाने जाते  थे ओर रोज़ाना पेड़ पर चढ़ते थे किन्तु एक दिन रात में बहूत भयंकर बारिश हुई  जिस से जामुन के पेड़ पर फिसलन हो गई ।

चारों भाई रोज़ की तरह सुबह जल्दी उठे और अपने खेत पर जामुन खाने चल दिए ,चूंकि रात की भयंकर बारिश और तेज़ हवाओ के प्रभाव को देखते हुए दीपू ओर कीनू ने अपने छोटे भाई सुरु ओर हितु को पेड़ पर चढ़ने से रौका ओर स्वयं पेड़ पर चढ़ गए।

दौनो ऊपर चढ़कर लापरवाही से मस्ती कर रहे थे ,जोर जोर से गाने गा रहे थे , अब उन्होंने बहुत सारे जामुन भी इक्कठे कर दिए थे ।

अब वो नीचे उतरने ही वाले थे कि  दीपू का पैर अचानक फिसल गया और वह उल्टे पाव(सिर के बल) नीचे  गिरने लगा  ओर बचाव की पुकार हैतु कीनू की आवाज दी , हालांकि कीनू दीपू की पहुच से फिर भी बहुत दूर था लेकिन भाई प्रेम में मानो वो हनुमान जी बना गया हो  एक डाल से दूसरी डाल पर कूदकर उसने अपने बड़े भाई  दीपू के पाव पकड़ लिए ।

अब स्थिति कुछ यूं थी कि दीपू पेड़ के बीचों बीच उल्टा लटक रहा था और  कीनू ने उसके पाव ऊपर से पकड़ रखे थे।

चारो भाई डर के मारे घबराने ओर रोने लगे ओर बचाओ बचाओ चिल्लाने लगे किन्तु कोई बचाने नही आया फिर दीपू जो कि उल्टा लटक रहा था अपने विवेक का उपयोग करते हुए अपने छोटे भाईयो को रस्सी लाने हैतु आदेशित किया । दौनो भाई दौड़कर रस्सी लेकर आते है  उसमें हितु जो  सब से छोटा भाई होता है वो पेड पर चढ़कर रस्सी बांध कर आता है   और रस्सी के सहारे  दीपू को नीचे उतारा जाता है ।

दीपू लगभग 15 मिनिट उल्टा लटका रहता है जब तक न कीनू की पकड़ ढीली होती है और हितु ,ओर सुरु के हौसले कमजोर पड़ते है।
वो अपनी हिम्मत , हौसले ओर भाई के प्रति अपार के कारण  अपने भाई की जान बचाने में सफलता प्राप्त करते है । चारो भाई दीपू के नीचे आने के बाद एक  दूसरे को गले लगाते है , जीवन भर साथ  रहने की कसमे खाते है और वापस घर लौट जाते है ।

*ओर भाईयो के प्रेम का उदाहरण  हमारा सबसे बड़ा धर्म ग्रन्थ रामायण में है  कि प्रभु राम की विजय इसलिए होती है क्योंकि उनके भाई लक्ष्मण उनके साथ होते है और रावण की पराजय इसलिए होती है क्योंकि उनके भाई विभीषण उनके साथ नही होते  अतः अपने भाई से सदा प्रेम बनाए रखे क्योकि भाई वो पूँजी है जो जीवन भर आपके साथ रहेगी।*
 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.