• संवाददाता,

रणजीत बच्चन की मौत के बाद मचा हड़कंप, मामले की छानबीन में जुटी है लखनऊ पुलिस


लखनऊ राजधानी लखनऊ में रविवार सुबह तकरीबन 6 बजकर 15 मिनट पर हिंदूवादी नेता रणजीत बच्चन की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस मामले की ग्राउंड जीरो से पड़ताल की तो कई अहम बातें सामने आईं। लखनऊ के ओसीआर स्थित बी-ब्लॉक में अपार्टमेंट नंबर-604 के कमरे में जब हम पहुंचे तो वहां दो लोग मौजूद थे। शनिवार को यहां पर हवन का आयोजन हुआ था। रणजीत बच्चन के जन्मदिन पर यह कार्यक्रम किया गया था। नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर एक शख्स ने बताया, 'सुबह तकरीबन साढ़े 5 बजे रणजीत बच्चन अपनी पत्नी कालिंदी शर्मा और मौसेरे भाई आदित्य के साथ टहलने निकले थे। वह आमतौर पर ग्लोब पार्क की तरफ नहीं जाते थे। सुबह 7 बजे यहां दो पुलिस वाले आए तब जाकर पता चला कि ऐसी घटना हो गई है। हमने कालिंदी को फोन किया तो जानकारी मिली कि वह रणजीत और आदित्य से बहुत आगे चल रही थीं। उन्हें जब घटना के बारे में बताया तो वह उल्टे पांव दौड़ पड़ीं। इस घटना में रणजीत बच्चन की मौत हो गई जबकि आदित्य जख्मी हो गए।' हिंदूवादी नेता को जानने वाले एक शख्स ने बताया कि रणजीत गोरखपुर से ताल्लुक रखते हैं जबकि कालिंदी कुशीनगर क्षेत्र की रहने वाली हैं। दोनों नैशनल लेवल के साइकलिस्ट रहे हैं। रणजीत कुछ दिनों तक समाजवादी पार्टी (एसपी) से भी जुड़े रहे। फिर उन्होंने विश्व हिंदू महासभा का गठन किया। क्राइम स्पॉट पर जब टीम पहुंची तो यहां ग्लोब पार्क की दीवार और सड़क पर खून बिखरा हुआ था, जिसके आसपास पुलिस द्वारा घेराबंदी की गई थी। यहां पुलिस की लापरवाही के कई सबूत मिले। घटनास्थल से महज 50 मीटर की दूरी पर बने ट्रैफिक पुलिस बूथ में तैनात यातायात पुलिस के सिपाहियों ने बताया कि रात में यूपी पुलिस की पीआरवी पार्क के आसपास चक्कर लगाती है। हैरानी वाली बात तो यह भी है कि महज 100 मीटर की दूरी पर थाना हजरतगंज की स्टेडियम चौकी है।


0 व्यूज

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.