• संवाददाता

पहले सरकार एनकाउंटर कराती थी, अब जनता को दिया एनकाउंटर का अधिकार: जवाद


लखनऊ देश के प्रमुख शिया धर्मगुरु और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना कल्बे जवाद ने देश में एक वर्ग विशेष के लोगों की पीट-पीटकर हत्या किए जाने की घटना की निंदा करते हुए इसके लिए फांसी की सजा के प्रावधान की मांग की है। मौलाना जवाद ने गुरुवार को जारी एक बयान में देश में 'मॉब लिचिंग' की बढ़ती घटनाओं की निंदा की और ऐसी वारदात के दोषियों को फांसी की सजा के प्रावधान की मांग की। उन्होंने कहा कि मॉब लिंचिंग की ये घटनाएं एनकाउंटर का नया रूप हैं। पहले सरकार एनकाउंटर कराती थी और आज जनता को एनकाउंटर का अधिकार दे दिया गया है, यह दुखद है। ऐसी वारदात के मुजरिमों को एक-दो साल की कैद के बजाय फांसी की सज़ा होनी चाहिए ताकि ऐसी घटनाओं पर काबू पाया जा सके। मौलाना ने कहा कि मॉब लिंचिंग की ऐसी घटनाओं से सरकार की बदनामी हो रही है। अक्सर मामूली नेता किस्म के लोग इस तरह की वारदात के लिए जिम्मेदार होते हैं। उन पर कार्रवाई जरूरी है। जवाद ने झारखंड में हाल में भीड़ की ज्यादती के कारण मारे गए तबरेज़ अंसारी की मौत पर अफसोस का इज़हार किया और अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।


0 व्यूज

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.