• संवाददाता

विधानसभा चुनाव से पहले केजरीवाल को याद आया हिंदू वोटबैंक


नई दिल्ली अब तक मुस्लिम तुष्टिकरण के आरोप झेलती रही आम आदमी पार्टी दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले हिंदुओं को लुभाने की कोशिश करती दिख रही है। यही वजह है कि इस महीने ज्यादा से ज्यादा बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा पर भेजने का प्रयास हो रहा है। 'आप' के विधायकों ने अपने दफ्तरों पर कैंप लगवाए हैं, जहां विधानसभा क्षेत्र के बुजुर्ग अपना रजिस्ट्रेशन कर रहे हैं। ईद की शाम मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अक्षरधाम मंदिर भी पहुंचे। यहां उन्होंने स्वामी नारायण की पूजा-अर्चना की। केजरीवाल की इस कवायद पर विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने सवाल खड़े किए हैं। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि अब केजरीवाल के लिए एक कहावत 'ना खुदा ही मिला ना विसाले सनम ना इधर के रहे ना उधर के' फिट बैठ रही है। लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद अब केजरीवाल को हिंदू वोट बैंक याद आया है। वे दिल्ली के बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा पर भेज रहे हैं, जो अच्छी बात है। लोकसभा चुनाव से पहले 'आप' सरकार ने इमामों का वेतन बढ़ाकर करोड़ों रुपये बांटे थे। अब यदि उन्हें हिंदुओं की याद आ गई है, तो मंदिरों के पुजारियों की भी सैलरी सुनिश्चित की जाए। इमामों की तरह पंडितों के पास भी आय का दूसरा साधन नहीं होता है। महंगाई के दौर में मंदिरों में सेवा करने वालों को अपना परिवार पालना मुश्किल हो जाता है। इस दिशा में केजरीवाल को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। बता दें कि तीर्थ यात्रा विकास समिति ने आईआरसीटीसी से 15 जून के लिए ट्रेन मांगी है। करोल बाग से आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक विशेष रवि ने विजेंद्र गुप्ता के बयान पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि जो ऐसा करते हैं, वही ऐसा सोचते हैं। दिल्ली में केजरीवाल सरकार पक्षपात से काम नहीं करती। सभी योजनाएं हर एक नागरिक के लिए हैं। पहली तीर्थ यात्रा पर जा रही ट्रेन में सबसे अधिक बुजुर्ग करोल बाग से ही हैं। यहां से करीब 500 यात्रियों का रजिस्ट्रेशन हुआ है।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.