• संवाददाता

EC का नोटिस, योगी बोले- तो मंच पर भजन करें क्या?


लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कांग्रेस और एसपी-बीएसपी गठबंधन पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि ये लोग सिर्फ दिखाने के लिए अलग हैं, वैसे एक ही हैं। 'बाबर की औलाद' वाले अपने बयान पर चुनाव आयोग का नोटिस मिलने पर उन्होंने कहा कि यह बयान आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है, मैंने सिर्फ आपसी बातचीत को रैली में कोट किया था। उन्होंने कहा, 'आपसी बातचीत को कहीं कोट करना आचार संहिता में नहीं आता है। कोई चीज कहीं लिखी है या कहीं बोली गई है, अगर मैं वह भी नहीं बोल सकता तो फिर चुनाव में कोई क्या बोल पाएगा? कोई भजन करने के लिए मंच पर जाता है क्या? अपने विरोधी को घेरने के लिए और उसे उखाड़ फेंकने के लिए मंच पर जाते हैं।' बता दें कि चुनाव आयोग ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को उस बयान के लिए नोटिस जारी किया है, जिसमें उन्होंने समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन कैंडिडेट को 'बाबर की औलाद' कहा था। योगी ने संभल में चुनावी जनसभा करते हुए इस सीट से गठबंधन के उम्मीदवार शफीकुर्रहमान बर्क को लेकर विवादित टिप्पणी की थी। चुनाव आयोग ने योगी को नोटिस जारी कर 24 घंटे के अंदर जवाब देने को कहा है। न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने प्रियंका गांधी के समाजवादी पार्टी का मंच साझा करने पर हमला बोलते हुए कहा, 'ये सिर्फ दिखाने के लिए अलग-अलग हैं, असलियत में एक ही हैं और साथ में चुनाव लड़ रहे हैं। ये अपने दम पर बीजेपी का मुकाबला नहीं कर सकते हैं, इसलिए साथ में चुनाव लड़ रहे हैं।' उन्होंने कहा, 'एसपी-बीएसपी ने अमेठी और रायबरेली में अपना उम्मीदवार नहीं उतारा। ये पार्टियां सिर्फ वोट-कटवा की भूमिका में हैं। ये सिर्फ वोट काटने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं, ना कि जीतने के लिए।' अखिलेश पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, 'जब वह मायावती के साथ मंच साझा करते हैं, तो उन्हें बैठने के लिए छोटी कुर्सी दी जाती है। मायावती ऊंची कुर्सी पर बैठती हैं। जब वह मायावती से मिलने जाते हैं, तो उनके जूते कमरे के बाहर रखवा लिए जाते हैं। यह तो उनकी स्थिति है।'


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.