• संवाददाता

राहुल के वादे को PM मोदी ने किया पूरा,आदिवासी महिला को 10 साल बाद मिला पक्का घर


टीकमगढ़/बांदा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 2008 में बुंदेलखंड के टीकमगढ़ में जिस आदिवासी महिला की झोपड़ी में भोजन किया था, उसे 10 साल बाद अब जाकर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्का घर मिल पाया है। राहुल गांधी उस समय बांदा के माधोपुर गांव भी गए थे और इस गांव में बीमारी से जूझ रहे दलित समुदाय के अच्छे लाल से अच्छे दिन का वादा किया था। हालांकि आदिवासी महिला ने यह भी आरोप लगाए कि 10 साल बाद भी यह पक्का घर उन्हें तीन बार घूस देने के बाद मिल पाया है। अच्छे लाल को भी नौ साल के इंतजार के बाद दो साल पहले उत्तर प्रदेश की तत्कालीन एसपी सरकार से लोहिया आवास योजना में पक्का घर मिल सका। राहुल ने हालांकि दोनों गांव को समस्याओं से मुक्त कराने का संकल्प लेते हुए इन गांवों को गोद लिया था। लेकिन दोनों गांवों को मूलभूत सुविधाओं का अभी भी इंतजार है। गौरतलब है कि 2008 में गांव और किसान की समस्याओं को समझने के लिए राहुल गांधी इन दोनों गांव में गये थे। पहले उन्होंने टीकमगढ़ के टपरियन गांव में आदिवासी समुदाय की भुंअन बाई के घर भोजन कर गरीबी से जूझ रहे इस परिवार को आत्मनिर्भर बनाने में मददगार बनने का वादा किया था। इसके बाद वह माधौपुर भी गए। लगभग 10 साल बाद चुनाव प्रचार के सिलसिले में मंगलवार को राहुल की टीकमगढ़ यात्रा ने इस इलाके के लोगों में उनकी टपरियन और माधौपुर के दौरे की यादें ताजा कर दी। बीते 10 साल में दोनों गावों की सूरत में आए, बदलाव के सवाल पर गांव के लोगों की नजर सिर्फ भुंअन बाई और अच्छे लाल के पक्के घरों की तरफ दौड़ती हैं। बाकी गांव की तस्वीर जस की तस है। टीकमगढ़ के टपरियन गांव में प्रवेश मार्ग पर एक बोर्ड लगा है, जिस पर लिखा है, राहुल ग्राम टपरियन। जिला कांग्रेस कमेटी द्वारा इस गांव को गोद लेने की घोषणा करते इस बोर्ड की बदरंग हालत से गांव की बदहाली का सहज अंदाजा लग जाता है। चंद कदमों की दूरी पर आदिवासियों की झोपड़ियों के बीच प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बना एक मात्र पक्का आवास भुंअन बाई के घर की पहचान बन गया है। वह बताती हैं, 'राहुल गांधी ने हमारे घर आकर भोजन किया था, उससे हमें पहचान जरूर मिली। पर, 10 साल में जिंदगी की समस्याओं का कोई हल नहीं मिला। अब जाकर पिछले साल पीएम आवास योजना में पक्का घर मिला, वह भी तीन किस्तों में घूस देकर।' भुंअन बाई ने बताया कि उनके चार बेटे हैं और सभी बेरोजगार हैं। राहुल गांधी द्वारा फिर कभी हाल चाल लेने के सवाल पर उन्होंने बताया, कभी कोई नहीं आया। पिछले साल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम पर पक्का घर देने की पेशकश करने कुछ बीजेपी नेता जरूर आए थे। गांव पंचायत सदस्य दशरथ ने बताया कि राहुल गांधी ने इस गांव को गोद जरूर लिया था लेकिन 1500 की आबादी वाले गांव में स्कूल, पानी और रोजगार की समस्या बरकार है। गांव में कक्षा पांच तक सिर्फ एक स्कूल है। गांव के अधिकांश बच्चे पांचवीं तक ही पढ़ते हैं। गिने चुने बच्चे ही आगे की पढ़ाई कर पाए हैं। पंचायत सदस्य जालिम सिंह ने बताया कि 2016-2017 में प्रधानमंत्री आवास योजना में गांव में सिर्फ आठ झोपड़ियों को पक्के घर में तब्दील किया जा सका है। वहीं बांदा जिले के माधौपुर गांव की तस्वीर भी कुछ ऐसी ही है। 10 साल पहले राहुल से मुलाकात को याद करते हुए अच्छे लाल ने बताया, 'बेटे की मौत के गम में डूबे हमारे परिवार को ढांढस बंधाते हुए राहुल ने कहा था कि हम आपका बेटा वापस नहीं लौटा सकते हैं, बल्कि आपके लिए बेटा बनकर आपकी समस्याओं को दूर करने में मददगार जरूर बन सकते हैं।' उन्होंने कहा कि 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में एसपी- कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवार के पक्ष में चुनाव प्रचार करने महोबा आए राहुल गांधी को स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के हवाले से अच्छे लाल के जीवन में कोई सुधार नहीं आने की याद दिलायी गई थी। उसके तुरंत बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पहल पर जिलाधिकारी ने खुद गांव आकर लोहिया आवास योजना के तहत उनका घर बनवाया था। अच्छे लाल को राहुल की मदद से बेहतर चिकित्सा सहायता के कारण बीमारी से निजात जरूर मिली लेकिन अब उन्हें डेढ़ लाख रुपये के कृषि कर्ज से उबरने की दरकार है। गांव की प्रधान मधुरिमा ने बताया कि 2017 में अच्छे लाल की झोपड़ी पक्के घर में तब्दील होने के साथ ही जिलाधिकारी ने गांव में चौपाल लगाकर लोहिया आवास योजना के उपयुक्त पात्रों की पहचान की थी। इसके बाद 15 लोगों को 2.70 लाख रुपये की आर्थिक मदद से लोहिया आवास और 70 हजार रुपये की आर्थिक मदद से 223 लोगों को इंदिरा आवास बना कर दिए घए। इसके अलावा मोदी सरकार की पीएम आवास योजना के तहत गांव को 1.20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता से स्वीकृत 12 आवास में से छह बन चुके हैं। छह आवास का निर्माण अभी इंतजार के दौर में हैं।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.