• संवाददाता

बीजेपी के घोषणापत्र पर राहुल गांधी के बयान पर राजनाथ ने कहा, उन्हे गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं


नई दिल्ली गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बीएसपी चीफ मायावती के मुस्लिमों से वोट नहीं बंटने देने की अपील करने वाले बयान पर जमकर निशाना साधा है। गृह मंत्री ने मायावती को घेरते हुए कहा कि हिंदू-मुसलमान के आधार पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। लोकतंत्र में इस तरह के बयान को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। राजनाथ ने समाचार एजेंसी ANI को दिए इंटरव्यू में कहा, 'जाति, संप्रदाय और धर्म के आधार पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।' गृह मंत्री ने साथ ही मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी में राजनीतिक मंशा होने से इनकार करते हुए कहा कि एजेंसियां इनपुट्स के आधार कार्रवाई करती हैं। मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग के छापों पर गृह मंत्री ने कहा कि इसके पीछे कोई राजनीतिक मंशा नहीं है। एजेंसियां इनपुट्स के आधार पर कार्रवाई करती हैं। विपक्षी नेताओं पर रेड के सवाल पर राजनाथ ने कहा कि सरकार पर आरोप लगाना गलत है। उन्होंने कहा, 'यह तो सालों से हो रहा है, आज शुरू नहीं हुआ है। यह कहना सही नहीं होगा कि यह किसी के इशारे पर किया जा रहा है। चुनाव आयोग फोर्स की मांग करती है और हम उसे उपलब्ध कराते हैं। सुरक्षाबलों की तैनाती आयोग के कहने पर होती है, केंद्र के कहने पर नहीं होती है।' एमपी में केंद्रीय सुरक्षाबलों और राज्य पुलिस के बीच नोकझोंक के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा कि इसका केंद्र सरकार से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा, 'हम इसके लिए जिम्मेदार नहीं हैं। चुनाव आयोग मामले को देखेगा।' कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा बीजेपी के घोषणापत्र पर ट्वीट के सवाल पर राजनाथ ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि भारतीय राजनीति के इतिहास में इतने लोगों को घोषणापत्र बनाने की प्रक्रिया में शामिल किया गया हो। वह जो कुछ भी कर रहे हैं वह आधारहीन है। वह ऐसा कहते रहते हैं, उन्हें गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है। बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी के घोषणापत्र को एक व्यक्ति की आवाज करार देते हुए मंगलवार को दावा किया कि इसे बंद कमरे में तैयार किया गया है और इसमें दूरदर्शिता का अभाव है। उन्होंने यह दावा किया कि उनकी पार्टी का घोषणापत्र लंबे विचार-विमर्श के बाद तैयार किया गया है और उसमें जनता की आवाज शामिल है। नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला के उस बयान पर कि अगर आर्टिकल 370 को हटाया गया तो कश्मीर भारत से अलग हो जाएगा, के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा, 'कश्मीर को कभी भी भारत से जुदा नहीं किया जा सकता है। कोई भी ताकत कश्मीर को भारत से जुदा नहीं कर सकती है।' जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला के बयान कि अगर आर्टिकल 370 और 35A हटाया जाता है तब हम राज्य में वजीर-ए-आजम और सदर-ए-रियासत के पद को फिर से बहाल करेंगे, पर सवाल पूछने पर राजनाथ सिंह ने कहा, 'हमने अपने घोषणापत्र में साफ किया है कि अगर हम दोबारा सत्ता में आएंगे तो आर्टिकल 35A को हटा दिया जाएगा। देश में दो राष्ट्रपति और दो प्रधानमंत्री होने का सवाल ही नहीं है।' पाकिस्तान में आतंकियों के खिलाफ किए गए सर्जिकल स्ट्राइक की चर्चा करते हुए राजनाथ ने कहा कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को इस बारे में जानकारी दी गई थी। उन्होंने कहा कि बालाकोट एयर स्ट्राइक के दौरान आम नागरिकों को नुकसान न पहुंचे इसके लिए पूरी सतर्कता बरती गई थी। राजनाथ सिंह ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता आडवाणी को सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के बारे में जानकारी दी गई थी। गृह मंत्री ने कहा, 'आडवाणी लंबे समय से राजनीति में हैं और हमारी प्रेरणा के स्रोत हैं। हमने स्ट्राइक के दौरान पाकिस्तान की संप्रभुता पर हमला किए बिना आतंकी ठिकानों को ध्वस्त किया।' क्या बीजेपी टू मैन पार्टी और वन मैन शो है? इस सवाल पर राजनाथ सिंह ने कहा, 'यह सब आधारहीन बातें हैं। पार्टी अध्यक्ष और प्रधानमंत्री को महत्व तो दिया ही जाएगा। जब मैं पार्टी अध्यक्ष था और मोदी जी प्रधानमंत्री उम्मीदवार तब हमारा नाम लिया जाता था। यह तो आम बात है।' राजनाथ सिंह ने कहा कि यह कभी नहीं कहा गया कि 15 लाख रुपये लोगों के अकाउंट में आ जाएंगे। बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने पर नितिन गडकरी के पीएम उम्मीदवार के सवाल पर राजनाथ सिंह ने कहा, 'ये सब काल्पनिक सवाल है। ये ख्याली पुलाव है और कुछ नहीं। हमें पूरा बहुमत मिलेगा। पीएम मोदी ही होंगे और इसमें किसी को कोई शक नहीं होना चाहिए।'


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.