• संवाददाता

शाह ने की अपील, इस बार उड़िया बोलने वाली मुख्यमंत्री चुनिए


भुवनेश्‍वर चुनावी राज्‍य के ओडिशा के दौरे पर पहुंचे बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने उड़‍िया भाषा के बहाने राज्‍य के मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक पर हमला बोला है। उन्‍होंने कहा कि पटनायक 19 साल में उड़िया नहीं सीख सके। जनता को इस बार उड़िया बोलने वाला मुख्यमंत्री चुनना चाहिए। शाह ने आरोप लगाया कि पटनायक ने पश्चिम और मध्‍य ओडिशा के साथ सौतेला व्‍यवहार किया है। शाह ने गजपति में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, 'मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि एक अप्रैल को मैं ओडिशा आया हूं। आज उत्कल दिवस है। आज के ही दिन पूरे देश में भाषा के आधार पर कोई राज्य बना तो वह ओडिशा था। आज 19 साल हो गए, मगर यह ओडिशा वालों के लिए दुर्भाग्य की बात है कि यहां के मुख्यमंत्री नवीन बाबू उड़िया भाषा बिना पढ़े नहीं बोल सकते।' उन्‍होंने कहा, 'नवीन पटनायक ने जिस प्रकार से पश्चिम और मध्य ओडिशा के साथ सौतेला व्यवहार किया है, इस बार उसका हिसाब करने का वक्‍त आ गया है। आने वाला चुनाव देश और ओडिशा दोनों का भाग्य तय करने वाला है। मैं कश्मीर से कन्याकुमारी और असम से लेकर गुजरात तक घूमता हूं और लोगों से पूछता हूं कि किसकी सरकार आएगी, तो एक ही आवाज आती है मोदी-मोदी।' बीजेपी अध्‍यक्ष ने कहा, 'ओडिशा में आज इतना भ्रष्टाचार है कि इनके चहेते अफसर, कलेक्टर, एसपी जनता से उगाही करते हैं। इतना ही नहीं महाप्रभु का रत्न भंडार भी सलामत नहीं रहा। जो रत्न भंडार जनता ने भरा, उस रत्न भंडार का कोई हिसाब भी नहीं है। इतने वर्षों में ओडिशा के घरों में न बिजली है, न साफ पानी है और न गांवों में सड़कें हैं। नवीन पटनायक की सरकार ने भ्रष्टाचार के अलावा कुछ नहीं किया।' उन्‍होंने आरोप लगाया कि पीएम मोदी ने करीब 5.5 लाख करोड़ रुपये ओडिशा के विकास के लिए भेजे, लेकिन ये पैसे यहां के गांवों तक नहीं पहुंचे हैं। नवीन पटनायक के अफसर बीच में ही इन पैसों पर चपत लगा देते हैं। शाह ने कहा कि आतंकवादियों पर कार्रवाई के बाद आज सारा विपक्ष पीएम मोदी की सरकार पर सवाल उठा रहा है। आज सभी मानते हैं कि आतंकवाद को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए लेकिन राहुल गांधी के गुरु सैम पित्रोदा कह रहे हैं कि आतंकवादियों से बातचीत करो।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.