• संवाददाता

5 साल में सीमा पार 3 बार स्ट्राइक की पर तीसरी की जानकारी नहीं दूंगा: राजनाथ


मंगलूरू केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आतंकियों के खिलाफ स्ट्राइक के बारे में नई जानकारी देकर सबको चौंका दिया है। कर्नाटक के मंगलूरू में गृह मंत्री ने बताया कि पिछले 5 वर्षों में भारतीय सेना ने तीन बार सीमा पार जाकर स्ट्राइक कर कामयाबी हासिल की है। इस दौरान राजनाथ ने साफ किया कि वह दो स्ट्राइक की जानकारी तो देंगे लेकिन तीसरी स्ट्राइक के बारे में कुछ नहीं बताएंगे। आपको बता दें कि पिछले दिनों पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकियों के खिलाफ स्ट्राइक की थी। इसके बाद से ही आतंकी और उनके सरपरस्त बौखलाए हुए हैं। इसका नतीजा यह है कि जम्मू-कश्मीर में लगातार आतंकियों की तरफ से अशांति फैलाने की कोशिश हो रही है। वहीं, पाकिस्तान लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। इस बीच, केंद्रीय गृह मंत्री ने शनिवार को पुलवामा आतंकी हमले के बहाने सेना के शौर्य की सराहना की। राजनाथ ने यह बताकर सबको चौंका दिया कि भारत ने तीन स्ट्राइक में सफलता पाई है। राजनाथ ने कहा, 'पिछले पांच वर्षों में हम तीन बार अपनी सीमा के बाहर जाकर स्ट्राइक कर कामयाबी हासिल किए हैं। दो की जानकारी दूंगा लेकिन तीसरी की नहीं दूंगा। राजनाथ ने आगे कहा, 'आतंकवाद के खिलाफ हमें एकजुट खड़े होने की जरूरत है। हमने 3 स्ट्राइक में सफलता पाई है। पहली बार (उरी आतंकी हमला) रात में सोए हमारे सैनिकों पर हमला किया गया, जिनमें उनकी जान गई। उसके बाद जो कुछ भी हुआ, आपको अच्छी तरह जानकारी है। वहां (पाकिस्तान) हाहाकर मच गया। दूसरी स्ट्राइक पुलवामा आतंकी हमले के बाद हुई है। तीसरी की जानकारी मैं नहीं दूंगा।' इस दौरान राजनाथ ने यह भी कहा कि अब यह कमजोर भारत नहीं रहा। इससे पहले शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने भी इस मुद्दे को उठाया था। उन्होंने दो टूक कहा कि इस बार पाकिस्तान रंगे हाथ पकड़ा गया है और उस पर चौतरफा दबाव है। हालांकि पीएम ने यह भी आरोप लगाया कि देश के ही कुछ लोग अपने बयानों से पाकिस्तान की मदद कर रहे हैं। पाकिस्तान उनके बयानों को आधार बनाकर दुनियाभर में भ्रम फैला रहा है।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.