• संवाददाता

पूर्व सीएम और दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित ने गठबंधन की खबरों किया साफ इनकार


नई दिल्ली दिल्ली में आम तमाम अटकलों और चर्चाओं पर विराम लगाते हुए कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के लिए दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) के साथ गठबंधन से साफ इनकार कर दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ बैठक के बाद प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित ने मीडिया के सवालों के जवाब देते हुए कहा कि बैठक में सर्वसम्मति से इस बारे में फैसला लिया गया है। बता दें कि आम आदमी पार्टी जहां गठबंधन के लिए पूरा जोर लगाए हुए थी, वहीं दिल्ली कांग्रेस के नेता इसके विरोध में थे। इससे पहले ऐसी अटकलें थीं कि आप और कांग्रेस आपस में 3-3 सीटें बांट सकती हैं और 1 सीट निर्दलीय के लिए छोड़ी जा सकती है। शीला के इस बयान पर अभी आम आदमी पार्टी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। आम आदमी पार्टी शाम चार बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना पक्ष रखेगी। दिल्ली में अब त्रिकोणीय मुकाबला तय माना जा रहा है। पाकिस्तान के बालाकोट में जैश के आतंकी ठिकाने पर वायुसेना के हमले के बाद बदले माहौल में बीजेपी से मुकाबले के लिए दोनों दलों के बीच गठबंधन की खबरें जोर पकड़ रही थीं। मंगलवार दोपहर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गठबंधन पर राय जानने के लिए दिल्ली कांग्रेस के नेताओं के साथ अहम बैठक की। बैठक में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित भी मौजूद थीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक दिल्ली कांग्रेस के नेताओं की राय को तवज्जो देते हुए राहुल ने गठबंधन का रास्ता बंद कर दिया। बैठक के बाद शीला ने साफ किया कि कांग्रेस दिल्ली में गठबंधन नहीं करने जा रही है। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित ने बैठक की जानकारी देते हुए बताया, 'दिल्ली में आप और कांग्रेस में गठबंधन नहीं होगा। हमने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी इस बारे में बताया है और वह भी सहमत थे। सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया। हम अकेले पूरे साहस के साथ चुनाव लड़ेंगे।' वहीं दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी पीसी चाको ने भी आप के साथ गठबंधन की खबरों को खारिज किया। बता दें कि दिल्ली में आप के साथ गठबंधन को लेकर कांग्रेस में दो खेमे बन गए थे। एक खेमा आप के साथ गठबंधन के पक्ष में था, जबकि एक बड़ा खेमा आप के साथ गठबंधन नहीं करना चाहता था। शीला भी पहले कई बार गठबंधन नहीं करने का बयान दे चुकी थीं। अंत में पार्टी ने सर्वसम्मति से आप के साथ गठबंधन नहीं करने का फैसला किया। इससे पहले गठबंधन को लेकर अलग-अलग चर्चाएं सामने आ रही थीं। एक चर्चा के अनुसार दिल्ली में कांग्रेस 3 और आम आदमी पार्टी 3 सीटों पर चुनाव लड़ने की खबर थी और एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार के लिए छोड़ने की बात कही जा रही थी। एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार के लिए छोड़ा गया है। इस एक सीट पर यशवंत सिन्हा के लड़ने की खबरें थीं। वहीं एक अन्य फॉर्म्युला भी चर्चा थी। इसके अनुसार कांग्रेस के 5 और आप के 2 सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कही जा रही थी। हालांकि शीला के बयान के बाद दिल्ली में दोनों दलों के बीच गठबंधन की खबरों पर फिलहाल विराम लग गया है। बता दें कि आप ने लोकसभा चुनावों के लिए अपने 6 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी थी। इसे कांग्रेस पर दबाव बनाने की कोशिश माना जा रहा था। आप को उम्मीद थी कि कांग्रेस के साथ गठबंधन हो सकता है। पर कांग्रेस के इनकार के बाद आप को झटका लगा है। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित ने हाल के कई बयानों में कहा था कि कांग्रेस दिल्ली में अकेले चुनाव लड़ेगी। पार्टी कार्यकर्ता और नेता भी अकेले चुनाव लड़ने की ही वकालत कर रहे थे। लेकिन आज की बैठक के बाद अब यह साफ हो गया है कि दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला होगा। आम आदमी पार्टी ने शनिवार को दिल्ली की कुल 7 सीटों में से 6 पर अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया था। दूसरी तरफ वेस्ट दिल्ली सीट के लिए कैंडिडेट घोषित न करके, आप ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावनाओं को जिंदा रखने के भी संकेत दिए थे। आम आदमी पार्टी ने नई दिल्ली संसदीय सीट से बृजेश गोयल को कैंडिडेट बनाया है। ईस्ट दिल्ली से आतिशी मर्लिना, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली से दिलीप पांडेय, साउथ दिल्ली से राघव चड्ढा, चांदनी चौक से पंकज गुप्ता और नॉर्थ वेस्ट दिल्ली से गुगन सिंह को उम्मीदवार बनाया गया है।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.