• संवाददाता

बोफोर्स से कांग्रेस की सरकार गई थी, राफेल मोदी सरकार को दोबारा वापस लेकर आएगाः रक्षा मंत्री


नई दिल्ली राफेल मुद्दे पर कांग्रेस के आरोपों पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को लोकसभा में न सिर्फ सिलसिलेवार ढंग से जवाब दिया, बल्कि उस पर कई तीखे हमले भी किए। उन्होंने कहा कि राफेल में कोई घोटाला नहीं हुआ। रक्षा मंत्री ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि बोफोर्स की वजह से आपकी सरकार गई थी, राफेल की वजह से मोदी फिर सत्ता में आएंगे। रक्षा मंत्री ने आरोप लगाया कि कांग्रेस जब सत्ता में थी तो डील को लटकाए रखी क्योंकि उसे इसमें 'पैसे नहीं मिले' और राष्ट्रीय सुरक्षा को नजरअंदाज की। लोकसभा में राफेल पर अपने करीब ढाई घंटे के जवाब में सीतारमण ने कांग्रेस पर लगातार झूठ बोलने और देश को गुमराह करने का आरोप लगाया। उन्होंने लड़ाकू विमान की कीमत और HAL को ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट नहीं मिलने समेत विपक्ष के सभी आरोपों पर बिंदुवार जवाब दिए। सीतारमण ने कहा, 'मोदी के 5 सालों के दौरान रक्षा मंत्रालय बिना दलालों के काम कर रहा है। राफेल राष्ट्रीय हितों से जुड़ा फैसला है। मैं बोफोर्स पर बात नहीं करना चाहती क्योंकि वह एक घोटाला था, राफेल घोटाला नहीं है। बोफोर्स ने आपको सत्ता से बाहर किया, राफेल मोदी को फिर सत्ता में लाएगा, यह नरेंद्र मोदी को नए भारत के निर्माण के लिए, भ्रष्टाचार समाप्त करने के लिए वापस लाएगा।'

'18 की जगह 36 विमान का सौदा, कीमत भी 9% कम' राफेल मामले में कांग्रेस एवं राहुल गांधी के आरोपों को 'असत्य एवं गुमराह' करने वाला बताते हुए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार में रहते हुए कांग्रेस की मंशा 10 वर्षों में राफेल विमान खरीदने एवं राष्ट्रीय सुरक्षा की नहीं थी जबकि वर्तमान सरकार ने बेहतर शर्तों के आधार पर यूपीए के समय के उड़ान भरने की स्थिति वाले 18 विमानों की तुलना में 36 विमान खरीदने का सौदा 9 प्रतिशत कम कीमत पर किया।

कांग्रेस पर वार- पैसा नहीं मिला तो सौदा रोक दिया कांग्रेस पर निशाना साधते हुए सीतारमण ने कहा कि कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए सरकार के समय 10 वर्षों में एक भी राफेल विमान नहीं आया जबकि वर्तमान सरकार के तहत सरकारों के बीच समझौते पर 23 सितंबर, 2016 को हस्ताक्षर किया गया और पहला विमान इस तिथि से तीन साल के भीतर यानी 2019 में आ जाएगा और शेष विमान 2022 तक आ जाएंगे। राफेल विमान सौदे के मुद्दे पर लोकसभा में हुई चर्चा का जवाब देते हुए सीतारमण ने सदन में कहा, 'आपने (कांग्रेस) सौदे को रोक दिया। यह भूल गए कि वायुसेना को इसकी जरूरत है। क्योंकि यह सौदा आपको रास नहीं आया। दरअसल इससे आपको पैसा नहीं मिला।'

'यूपीए सरकार के दौरान रक्षा से जुड़े विषयों पर हो रहा था खिलवाड़' सीतारमण ने इस दौरान यूपीए सरकार में तत्कालीन रक्षा मंत्री के संसद भवन परिसर में दिए बयान का जिक्र किया और कहा कि तब के रक्षा मंत्री ने कहा था कि इसके लिए पैसा कहां है। उन्होंने सवाल किया कि ‘किस पैसे की बात हो रही थी’, ‘किस पैसे के कारण सौदा नहीं हुआ’। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि रक्षा सौदे और रक्षा में सौदे में काफी अंतर होता है। उन्होंने आरोप लगाया कि यूपीए सरकार के दौरान रक्षा से जुड़े विषयों पर खिलवाड़ चल रहा था।

'मोदी सरकार में भ्रष्टाचार का एक भी केस नहीं, हताशा में लगाए जा रहे आरोप' सीतारमण ने उच्चतम न्यायालय के फैसले का जिक्र करते हुए जोर दिया कि शीर्ष अदालत ने कीमत, प्रक्रिया और ऑफसेट 3 विषयों पर विचार करने के बाद कहा कि इन आधारों पर इस अदालत के हस्तक्षेप की जरूरत नहीं है। रक्षा मंत्री ने कहा साढ़े 4 साल तक बिना भ्रष्टाचार के आरोपों के चली सरकार पर किसी न किसी तरह भ्रष्टाचार के आरोप लगाने की हताशा के तहत यह सब किया जा रहा है। रक्षा मंत्री ने कहा कि इस सरकार में रक्षा मंत्रालय बिना दलालों के चल रहा है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी फ्रांस के राष्ट्रपति का हवाला बिना सबूत के दे रहे हैं और प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हैं। फ्रांस से निजी बातचीत के सबूत दिखाएं।

'वे 18 पूरी तरह तैयार विमान खरीद रहे थे, हमने 36 खरीदे' रक्षा मंत्री ने कहा कि हमारे पड़ोस और आसपास का माहौल बहुत अस्थिर है। जो भी सरकार में हैं, वे शांति चाहते हैं, लेकिन यह हमारी सैन्य अभियान तैयारी की कीमत पर नहीं हो सकता। हमें यह समझना होगा कि समय पर खरीद होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि चीन ने 2004 से 2014 के दौरान 400 विमान अपने बेड़े में शामिल किए। वहीं पाकिस्तान ने अपने विमानों की संख्या में दोगुने की बढ़ोतरी की है। उन्होंने कहा कि हमारे पास 42 स्क्वॉड्रन थे जो घटकर 33 रह गए। सीतारमण ने कहा कि वे (कांग्रेस) 18 विमान फ्लाईवे स्थिति में खरीद रहे थे और शेष विमान 11 साल में बनते। उन्होंने कहा कि वह जानना चाहती हूं कि जब तत्काल जरूरत है तो फिर इतना समय क्यों? 2006 से 2014 के बीच 18 विमान भी क्यों नहीं आए? रक्षा मंत्री ने कहा कि कांग्रेस को सवाल पूछने के लिए बल्कि जवाब देने के लिए खड़े होना चाहिए। यह जवाब देना चाहिए कि सौदा क्यों नहीं हुआ?

'HAL पर कांग्रेस घड़ियाली आंसू बहा रही है' कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जो लोग HAL के बारे में घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं उनसे पूछना चाहती हूं कि वे 108 विमान देश के भीतर बनाने का मुद्दा हल क्यों नहीं कर सके? उन्होंने स्थायी समिति की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि 3 दशक के बाद वायुसेना की जरूरत के मुताबिक स्वदेशी लड़ाकू विमान नहीं बनाया जा सका। कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि राहुल गांधी बेंगलुरु स्थित एचएएल गए लेकिन अमेठी में एचएएल नहीं गए।

'अलग-अलग रैलियों में अलग-अलग कीमत, पहले होमवर्क तो कर लीजिए' कांग्रेस पर हमला करते हुए सीतारमण ने कहा कि आपको एचएएल की चिंता है। आपको ज्यादा परेशानी हो रही है क्योंकि मिशेल यहां आ गया है। आपने अगुस्टा वेस्टलैंड का ठेका एचएएल को क्यों नहीं दिया? इसलिए नहीं दिया क्योंकि एचएएल आपको कुछ नहीं देता। उन्होंने आरोप लगाया कि ये पूरी मुहिम गैरजिम्मेदाराना सवालों पर आधारित है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री, वायु सेना प्रमुख को झूठा कह रहे हैं। इनके नेता पाकिस्तान गए और कहा कि मोदी को हटाइए। राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि विमान की कीमत को लेकर कई बार बातें की गईं। इसमें तारतम्यता क्या है? जनक्रोश रैली में 700 करोड़, रायपुर की रैली में 540 करोड़ रुपये और फिर 526 करोड़ रुपये कहा गया। ऐसा क्यों है? कांग्रेस को पहले होमवर्क करना चाहिए।


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.