• संवाददाता

कश्मीर के लोगों को मिलेगी राहत,दक्षिण कश्मीर में कई बच्चों का गला रेता था नवीद जट ने: डीजीपी


श्रीनगर जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों के ऑपरेशन ऑलआउट में मारा गया आतंकी नवीज जट बेहद क्रूर और खतरनाक था। पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या में शामिल रहा नवीद निर्दयी था और दक्षिण कश्मीर में कई बच्चों का गला रेतने में शामिल रहा था। नवीद के ढेर होने की जानकारी देते हुए राज्य के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बुधवार को कहा कि नवीद A++ श्रेणी का आतंकी था। नवीद के साथ मारे गए दूसरे आतंकी की पहचान नहीं हो पाई है। बता दें कि श्रीनगर के श्री महाराजा हरि सिंह हॉस्पिटल के अंदर लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों ने हमला कर इसी वर्ष फरवरी महीने में अबु हंजूला उर्फ नवीद जट को छुड़ा लिया था। इस हमले में दो पुलिसकर्मी भी शहीद हो गए थे। दिलबाग सिंह ने बताया, 'यह हफ्ता काफी अच्छा रहा। जो लोग कुलगाम, पुलवामा और शोपियां में निर्दोषों को मार रहे थे, उन्हें मार गिराया गया। बुधवार को मारे गए दो आतंकियों में से एक लश्कर ए तैयबा कमांडर नवीद जट भी शामिल था।' उन्होंने बताया, 'नवीद दक्षिण कश्मीर में कई लोगों की हत्याओं में शामिल था। वह पत्रकार शुजात बुखारी हत्याकांड का मास्टरमाइंड भी था।' उन्होंने बताया, 'कश्मीर के कई युवाओं और बच्चों को उठाकर गोलियों से भूनने, गला रेतने और पुलिस पर हमले में नवीद शामिल था। पिछले एक हफ्ते में हमने 2 दर्जन से अधिक आतंकियों को ढेर किया है। मुझे लगता है हम बेहतर भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं। नवीद का मरना यहां की जनता के लिए राहत की बात है। वह कश्मीरी युवाओं को सोशल मीडिया पर भड़काऊ विडियो पोस्ट करके भड़काने का काम करता था।'

10 महीने में 230 आतंकी मारे गए दिलबाग सिंह ने बताया कि पिछले 10 महीनों में 230 आतंकी ढेर किए जा चुके हैं। इस वजह से पिछले कुछ समय से कश्मीर में आतंकवाद की घटना में भी गिरावट आई है। दिलबाग ने बताया, 'फिलहाल स्थानीय युवाओं की आतंकी संगठनों में शामिल होने में भी कमी आई है। यहां के लोग भी आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई में हमारी मदद करते हैं।'

'स्थानीय आतंकी मारे जाते हैं तो हमें भी दुख होता है' दिलबाग सिंह ने बताया, 'ऐसा नहीं है कि आतंकियों के मारे जाने पर हम खुश होते हैं। जब हमारे स्थानीय नौजवान मारे जाते हैं तो हमें दुख होता है। इसलिए अपील करते हैं कि वे बेवजह किसी बहकावे में आएं, आतंकी संगठनों में शामिल न हों। माइंडवॉश न होने दें।' उन्होंने कहा कि साइट पर एनकाउंटर कर रही पुलिस पर पत्थरबाजी करना ठीक नहीं है। प्लीज ऐसा न करें। बता दें कि बुधवार को एनकाउंटर के दौरान स्थानीय लोगों ने सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी की थी। दिलबाग सिंह ने बताया कि उन्होंने नवीद जट के शव को पाकिस्तान को हैंडओवर करने के लिए भारत सरकार से कहेंगे।

पिछले 8 साल में मारे गए इतने आतंकी 2018- 230 2017-209 2016-165 2015- 113 2014- 110 2013-100 2012-84 2011-119 2010-270

अजमल कसाब के साथ हुई थी नवीद की ट्रेनिंग बता दें कि नवीद जट पाकिस्तान के मुल्तान का निवासी था और दक्षिण कश्मीर में लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर था। बता दें, नवीद जट्ट वही आतंकी है, जो फरवरी में श्री महाराजा हरि सिंह हॉस्पिटल के अंदर इलाज के दौरान पुलिस हिरासत से नाटकीय तरीके से फरार हुआ था। वह लश्कर के आतंकी अबु कासिम का करीबी बताया जाता है। यह भी बताया जा रहा है कि उसकी ट्रेनिंग अजमल कसाब के साथ हुई थी।


2 व्यूज

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.