• संवाददाता

मीटू: वर्कप्लेस पर शोषण के मामलों से निटपने के लिए गृहमंत्री के नेतृत्व में बनाया ग्रुप ऑफ मिनिस्टर


नई दिल्ली देश भर में मीटू को लेकर मचे घमासान के बाद केंद्र सरकार ने इन सभी मामलों को गंभीरता से लिया है। नरेंद्र मोदी सरकार ने बुधवार को ग्रुप ऑफ मिनिस्टर (जीओएम) का गठन किया है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह के नेतृत्व में यह जीओएम काम करेगा। ग्रुप से कार्यस्थल पर शोषण को रोकने के लिए मजबूत लीगल और इंस्टिट्यूशनल फ्रेमवर्क तैयार करने को कहा गया है। इस ग्रुप ऑफ मिनिस्टर में रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण, परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को शामिल किया गया है। वर्तमान नियमों को और प्रभावी बनाने के लिए क्या बदलाव किए जाएं, यह जीओएम को बताना होगा। ताकि कार्यस्थल पर महिलाओं के शोषण के मामले रूकें। गृह मंत्रालय ने कहा, 'इस मामले को गंभीरता से लेते हुए और इससे संबंधित मामलों पर बड़े स्तर पर सुलझाने के लिए ग्रुप ऑफ मिनिस्टर का गठन किया गया है।' जीओएम को वर्तमान प्रावधानों को जांचने और उसमें जरूरी बदलाव सुझाने के लिए 3 महीने का समय दियस गया है। गृह मंत्रालय ने कहा कि सरकार वर्कप्लेस पर महिलाओं के लिए सुरक्षित माहौल मुहैया कराने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। इसके अलावा महिला एवं बाल विकाय मंत्रालय ने एक इलेक्ट्रॉनिक शिकायत बॉक्स की व्यवस्था की है। इसके जरिए महिलाएं कार्यस्थल पर होने वाले यौन शोषण के खिलाफ आवाज उठा सकती हैं। केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने ही इस संबंध में जांच के लिए एक कमिटी बनाने की बात कही थी।


2 व्यूज

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.