• कर्म कसौटी

एक और 'नटवरलाल', 4 साल में 12 करोड़ ठगे


कोलकाता स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड का वरिष्ठ अधिकारी बनकर देश भर के व्यवसायियों से 12 करोड़ रुपये ठगने के आरोप में दुर्गापुर निवासी श्याम मित्रा को पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी सीआईडी की संयुक्त टीम ने गिरफ्तार किया है। श्याम मित्रा के ठगी के तरीके को जानकर पुलिश अधिकारी भी सकते में हैं। पुलिस के अनुसार आरोपी पर दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा, कोयंबटूर और पुडुचेरी में 12 केस दर्ज हैं। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि करोड़ों रुपये के बड़े सरकारी निविदाओं की तलाश में श्याम घंटों ऑनलाइन बैठा रहता था। उसके बाद वह निविदा की जानकारी जुटाता था। अधिकारी ने कहा, 'निविदा में कुल कितना धन शामिल है, यह जानकारी हासिल करने के बाद वह फेक बेवसाइट्स के माध्यम से नकली निविदाएं नेट पर डालता था। साथ ही विभिन्न टूल्स के जरिए यह सुनिश्चित करता था कि उसकी फेक बेवसाइट्स गूगल सर्च में सबसे ऊपर दिखाई दें।' महंंगे होटेल्स में रुकता था मित्रा पुलिस अधिकारी ने बताया कि हर सफल सौदे के बाद मित्रा जमकर ऐश करता था। वह महंगे होटेल्स में रुकता और लग्जरी गाड़ियों से चलता था। अधिकारी ने कहा, 'अपने रुतबे को बढ़ाने के लिए मित्रा ने ठगी के पैसों से कई गाड़ियां खरीदीं। हमें पता चला है कि वह मर्सिडीज ऑर्डर करने की योजना बना रहा था। उसके पास पहले से ही एक नई स्कॉर्पियो के साथ महिंद्रा एसयूवी थी जिसका अभी तक रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ था।’ लगभग चार सालों तक ठगी करने के बाद आखिरकार मित्रा को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। इस केस में मित्रा ने एक मार्केटिंग बिजनस बेव पोर्टल पर खुद को स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) का एजीएम (मार्केटिंग) भोलानाथ विश्वास बताया था और दावा किया कि वह सेल के उत्पादों के लिए ग्राहक ढूंढ रहा है। पुलिस ने बताया, 'शिकायतकर्ता पुडुचेरी के पशुपति इंजिनियरिंग के मालिक प्रशांत बंसल ने 35 मीटर स्टील ऑर्डर किया था, जिसे मित्रा ने शुरू में ही खारिज कर दिया था। मित्रा ने कहा कि सेल 100 मीटर से कम का ऑर्डर नहीं लेता।’ 2017 में भी हुआ था गिरफ्तार डीआईजी (ऑपरेशंस) निशात अहमद ने बताया कि 100 मीटर स्टील के ऑर्डर के लिए बंसल ने मित्रा को 58.32 लाख रुपये दिए लेकिन उसे स्टील नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने 26 जुलाई को पुडुचेरी में एफआईआर दर्ज कराया था। एफआईआर के बाद पुलिस ने बंगाल सीआईडी से संपर्क किया और उन्होंने मित्रा को गिरफ्तार कर लिया।’ बता दें कि सेल अधिकारी बनकर ठगने के आरोप में श्याम मित्रा को अक्टूबर 2017 में भी गिरफ्तार किया गया था।


0 व्यूज

                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.