• कर्म कसौटी

BSP की कांग्रेस को दो टूक, गठबंधन होगा तो तीनों राज्यों में नहीं तो किसी में भी नहीं


नई दिल्ली एक तरफ जहां एमपी कांग्रेस चीफ कमलनाथ बीएसपी के साथ गठबंधन की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ पता चला है कि मायावती सिर्फ एमपी नहीं बल्कि सभी चुनावी राज्यों में गठबंधन चाहती हैं। बीएसपी की इस मांग से कांग्रेस आलाकमान पसोपेश में पड़ गया है। साल के आखिर में होने वाले मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनावों को लेकर गठबंधन की कोशिशों के बीच कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि बीएसपी तीनों राज्यों में पार्टनर बनना चाहती है। कांग्रेस जहां संबंधित राज्यों में जरूरत के हिसाब से बीएसपी के साथ गठबंधन करने या न करने की सोच रही है, वहीं बीएसपी इस पर अडिग है कि गठबंधन होगा तो सभी चुनावी राज्यों के लिए, नहीं तो किसी भी राज्य में नहीं। कांग्रेस के रणनीतिकारों का कहना है कि इस मुद्दे को बहुत सावधानी से हैंडल करने की जरूरत है क्योंकि पार्टी की राजस्थान यूनिट बीएसपी के साथ गठबंधन की इच्छुक नहीं दिख रही है जबकि एमपी और छत्तीसगढ़ में इसकी पुरजोर पैरवी की जा रही है। बीएसपी के साथ इसलिए गठबंधन चाहती है कांग्रेस की मध्य प्रदेश यूनिट कांग्रेस की एमपी और छत्तीसगढ़ यूनिट को बाखूबी पता है कि दलित वोटों का साथ एक बड़ा अंतर पैदा कर सकता है जो दोनों राज्यों में लगातार 15 साल से चली आ रही बीजेपी की सत्ता पर विराम लगा सकता है। इसके उलट, राजस्थान एक ऐसा राज्य है जहां कांग्रेस को अपनी बदौलत ही सत्ता में आने की पूरी उम्मीद है क्योंकि पिछले कई चुनावों से सूबे की राजनीतिक तासीर ही ऐसी है कि यहां सत्ताधारी दल का चुनाव में फिर जीतकर आना बेहद मुश्किल है। अभी राजस्थान में बीजेपी की सरकार है और कांग्रेस की स्टेट यूनिट को इस चुनाव में अपनी 'बारी' दिख रही है। अंदरूनी सूत्रों का अनुमान है कि कांग्रेस राजस्थान में बीएसपी की सीटों की डिमांड को मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में उसके साथ गठबंधन की राह में रोड़ा नहीं बनने देगी। सूत्रों ने बताया कि राजस्थान कांग्रेस के प्रमुख सचिन पायलट ने बीएसपी के साथ गठबंधन की संभावनाओं से इनकार नहीं किया है बल्कि सिर्फ सूबे की राजनीतिक हकीकत को बयां किया है। एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा, 'अगर केंद्रीय नेतृत्व को लगता है कि गठबंधन पार्टी के व्यापक हितों के लिए जरूरी है तो यह राजस्थान में भी हो सकता है।' सूत्रों के मुताबिक पिछले हफ्ते तीनों चुनावी राज्यों में गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा के लिए कांग्रेस की बैठक हुई थी। ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस ने तीनों राज्यों में गठबंधन की बीएसपी की मांग पर गंभीरता से विचार किया लेकिन पार्टी चाहती है कि बीएसपी को कुछ ही सीटों से संतुष्ट किया जाए।  

मायावती को 100 फीसदी सीटे देदो तभी संतुष्ट नही होगी चुनाव लड़ने के लिए रुपये भी मांगेगी ।देश के दलित वही के वही है वो दलित की राजनीति करते करते खुद एसो आराम से महलों में मजे लूट रही है । 


                                           KarmKasauti

                            Kanpur Uttar Pradesh

          Email: karmkasauti@gmail.com

   Copyright 2018. All Rights Reserved.